Dissolve Maharashtra Government Under Rule Article 356 of Constitution

From:B K Chaudhari < >

Dear President,
A political figure that also of the stature of CM of an important
State of Bharat is intolerant and too narrow minded that he is offended
by a CARTOON!  His goons do not hesitate to openly thrash a Great warrior
in the open.  He is so stubborn and NAPUSANK that he cannot leash his
GOONS and makes no Statements/Comments at all. He is so Shameless!
He ought to know that his father was also a known Cartoonist of his time
and established himself as a CRUEL STARIST and entered into Politics.
I agree with you that Bala Sahib Thackray is being portrayed now against
his actual deeds.  He was a very narrow minded person always mired into
dirty PROVINCIALISM. It was him, who made the slogan very infamous,
MUMBAI HAMCHI.  It was him who set the precedent of vendetta against
the South Indians and threatened  and carried out violence at the slightest cause.
Beating, extorting, humiliating even shaving persons in the open.
The legacy continued with impunity by his illustrious tribesmen.  They even
beat up the EXAMINEE CANDIDATES, when they were deep asleep at the
Railway Stations.  The list continues.
While doing so they forgot the Great Contribution of Maharashtra in the struggle
for Independence and the other Sacrifices which the Great Marathas have made.
The excellent Leaders like Economists CD Deshmukh, Social and Political Assets
like Bal Gangadharji and many others mean nothing to these Goons.  Savarkarji
will be crying in heaven at this type of predicament.  And what about the BHARAT GAURAV
CHATTRAPATTI SHIVAJI MAHARAJ, who had principles, even for the enemies!
Yesterday in an ugly write up of their mouthpiece SAaMNA it has been openly claimed
that MAHARASHTRA MEIN HI DESH HAI, whereas a sensible DESH BAKHT will say that DESH MEIN HI
MAHARASHTRA HAI.  How separatists and narrow regionalism has plagued their mindset?
Finally, in a discussion in DANGAL of AAJ TAK, their representative Kishore Tiwari did not leave
any room to reaffirm the disgusting credentials of SHAV Sena (Shaitan Seva).  He was treating the
occasion as if he was in a MACHHLI BAZAR!
With regards
BK Chaudhari

आदरणीय मोदी जी, हमारे “मन की बात” भी सुनें .

From: Vinod Kumar Gupta < >

आदरणीय मोदी जी हमारे “मन की बात” भी सुनें .

माननीय प्रधानमंत्री जी

सादर वंदे

विषय: “मन की बात” कार्यक्रम में राष्ट्रहित हेतू कुछ आवश्यक सुझाव___

1__जब सन् 1947 में देश के विभाजन का आधार ही हिन्दू-मुस्लिम था और पाकिस्तान इस्लामिक देश घोषित हुआ तो उस समय यह स्वाभाविक मान लिया गया था कि भारत एक हिन्दू राष्ट्र होगा। लेकिन 73 वर्ष उपरांत भी भारत को अभी तक हिन्दू राष्ट्र घोषित न किया जाना देशवासियों के साथ क्या विश्वासघात नहीं है? अत: इस सन्दर्भ में आपसे विनम्र निवेदन है कि  सभी आवश्यक संवैधानिक संशोधन करके भारत को हिन्दू राष्ट्र घोषित किया जाना चाहिये।

2__भारतीय संविधान के अनुच्छेद 44 के अनुसार देश के समस्त नागरिकों में समानता हो इसके लिये  “समान नागरिक संहिता” का प्रावधान करना होगा। इस सन्दर्भ में  “सर्वोच्च न्यायालय” ने भी अनेक बार शासन को निर्देश दिये हैं। “संयुक्त राष्ट्र संघ” ने भी सभी नागरिकों के लिये एक समान आचार संहिता का सुझाव पूर्व में तत्कालीन भारत सरकार को दिये थे।अत: इसमें आने वाले सभी व्यवधानों को हटवा कर “समान नागरिक संहिता” की अविलंब व्यवस्था करके राष्ट्रीय विकास को गति प्रदान की जा सकती है।

3__यह भी सर्वविदित है कि आज  देश की विभिन्न समस्याओं की जड़ बढती जनसंख्या भयंकर रूप ले चुकी है।अत: अनेक राष्ट्रीय समस्याओं के समाधान के लिये सभी देशवासियों के लिये एक समान “जनसंख्या नियन्त्रण कानून” बनाना आवश्यक हो गया है।

4_बहुसंख्यकों व अल्पसंख्यकों में परस्पर बढते संघर्षों पर अंकुश लगाने के लिये “अल्पसंख्यक मंत्रालय” व “अल्पसंख्यक आयोग” आदि व इससे सम्बंधित सभी संस्थाओं को निरस्त करके समस्त देशवासियों में सामाजिक व साम्प्रदायिक सद्भाव बनाने का सार्थक प्रयास किया जाना चाहिये ।

5_क्या यह विचार करना अनुचित होगा कि विदेशी आक्रांताओं के धर्म/मजहब को हमारे देश में धार्मिक आधार पर अल्पसंख्यक नहीं माना जा सकता हैं? क्योंकि उन धर्मों का उद्गम भारत भूमि पर नहीं हुआ है। ऐसे में  “संयुक्त राष्ट्र संघ” के अनुसार “अल्पसंख्यक” कौन को परिभाषित करके सुनिश्चित किया जाना उचित होगा।

6__आपातकाल में धर्मनिरपेक्षता को संविधान में जोड़ना न्यायसंगत नहीं था, अत: इसकी पुन: विवेचना करके राष्ट्रहित में इसे हटाया जाए। Comment by Suresh Vyas: The word ‘secular’ was inserted in the constitution during Indira’s emergency time by her w/o any due democratic process. Therefore, it must be deleted just by the order of the President. No lengthy process should be required to correct what was illegal in the first place. Jaya sri krishna!

अत: अन्त में आपसे विनम्र अनुरोध है कि आज जब “सबका साथ, सबका विकास व सबका विश्वास” राष्ट्रीय मन्त्र बन चुका है तो सशक्त व समर्थ भारत के लिये ऐसे कुछ कठोर निर्णय लेकर माँ भारती के प्रधान सेवक की भूमिका को चरितार्थ करें।

सधन्यवाद

निवेदक

विनोद कुमार सर्वोदय
(राष्ट्रवादी चितंक व लेखक)
गाज़ियाबाद (उ.प्र.)

विशेष नोट:
*समर्थ भारत__सशक्त भारत*
आप सभी माननीय भारतभक्तों से अनुरोध है कि 30 अगस्त को हमारे मा. प्रधानमंत्री जी कि   *”मन की बात”* कार्यक्रम में  उपरोक्त सुझाव रखे।

कृपया उपरोक्त सुझाव देने के लिये टोल फ्री नं.1800117800 पर काॅ‌ल करें तत्पश्चात एक बीप सुनाई देने पर तुरंत अपनी बात कम शब्दों में केवल 40-45 सेकंड में रखे। क्योंकि इससे अधिक रिकार्ड नही हो पायेगी।ध्यान रहे कि आप इस नम्बर पर केवल दो बार ही अपनी बात कह सकते हैं।
आप ईमेल appt.pmo@gov.in पर भी करके अपने सुझाव दे सकते हैं।

इस संदेश को अपने सभी मित्रों व  साथियों को भेज कर अपने राष्ट्र को महान बनाने में प्रधानमन्त्री जी को भी सशक्त करके जन-जन में राष्ट्रभक्ति का संचार करें।

A Letter to Bhaaratiyas

From: Kumar Arun < >

PM Modi’s skill in sailing India have been extraordinary for the good citizen of India. As far as I am concerned, there is no other leader of any party, including BJP who did dare to make so many unprecedented decisions and act on it. However, just think over why majority of Hindus in India are living in deep doubts about their land transforming steadily towards Hindustan/ Bharat? Only two best options available to Modi and he must use as mandate in order to assure his largest base:
1 Discontinue Polygamy and Two Children (girl or boy) per family as soon as possible to bring equality within law and as law of the land.
2.Discontinue Reservation based upon Caste & Creed, allow 10 years reservation (limited time) ONLY based upon Total Family income assessed.
I hope you will find time to listen carefully, each & every word spoken into video attached above, try to figure it out and share your views soon.
Respectfully,
Dr. Kumar Arun
July 5, 2020

Request and Challenge to baseless defamation attempt by A PS.

https://wp.me/p1u3Hs-2nK

From Deva Sarran Samaroo < >

I challenged A PS <apsludh@gmail.com> who is trying to defame Swami Dayanand

Dayanandji was not an opium n sex addict nor he died of syphilis; he had a Muslim keeper who poisoned him.

Therefore, I humbly ask you to withdraw your defamatory statement amounting to defamation.

If I have to come to India, or where ever you live, and file a PIL against you in court, (I will do it.)

If Swami Dayanand is accused of splitting Punjab, (it) is debatable. The massive Christian conversion taking place presently in Punjab is cause for concern, and Swami Dayanand is not there.

So final warning to A PS: Withdraw your statement and apologize.

Deva

Arya Vir, London

Capt. Territorial army medical corp

==

From: A PS <apsludh@gmail.com>
Sent: Thursday, 18 June 2020, 20:27
Subject: Arya Samaj caused split of Punjab and loss of lives during 1947. Dyal Singh Majithia of Tribune brought Dayanand to Punjab by mistake thinking it was Brahmo Samaj of Raja Ram Mohun Roy.

Arya Samaj caused split of Punjab and loss of lives during 1947. Dyal Singh Majithia of Tribune brought Dayanand to Punjab by mistake thinking it was Brahmo Samaj of Raja Ram Mohun Roy.

Dayanand was an opium and sex addict. He died in Jodhpur where he had got syphilis from a dancer whore of Jodhpur palace.

Arya Samaj got into tussle with Muslim population in Punjab. Had Arya Samaj not printed Rangeela Rasool, murder of owner of Lahore book depot would not have occurred. And Jinnah would not have come to punjab from gujarat to defend assassin in lahore court.

Rest is history, Gujarati Gandhi and Gujarati Jinnah caused split of Punjab.

Arya Samaj has only institutions left in Punjab and has failed now. Arya Samaj never had any base anywhere else in India apart from Punjab. Talking to people from Gujarat or Maharashtra or Bihar no one has not even heard the word Arya Samaj.

==

 

 

Letter to London’s Mayor who said MK Gandhi was a racist.

https://wp.me/p1u3Hs-2lX

From: Shirish Dave < >

Dear Mayor Sadiq Khan,

If you are Mr. Sadiq Khan, and if you have termed MK Gandhi who died in Jan, 1948 a racist, and if you think you are logical in your conclusion, then kindly first define according to your logic, as to what do you mean by Racist, and then give some details based on which you have concluded MK Gandhi as a racist.

You must know that you have to prove that MK Gandhi had died as a racist. You cannot take him as a racist when he was walking with perambulator. MK Gandhi had committed his all mistakes by 1933. Based on one of mistakes if you are declaring him a racist, then you are proving yourself not only prejudicial and Radical Muslim. but a supporter of Islamic Terrorist also.

Please also indicate your purpose of terming MK Gandhi a racist.

(Gandhi was killed because he was pro-minority (i.e. Muslims), and anti-Hindi (anti-majority). – Suresh Vyas)

I feel you have given your contribution towards degradation of not only Muslim world, but also towards degradation of UK, by terming MK Gandhi a racist.

Regards,

Yours truly,

Shirish M. Dave

Muslim Population Growth rate not alarming?

From Rajput < >

Leena Mehendale ji,
Thank you for the outpouring of your received wisdom. You write:
“Going by population fig. France has highest Muslim population — 7 in 63 million, Germany  5 in 83 million and UK 3 in 65 million. I don’t see them as alarming at any rate.
I suppose the RAPID RATE of MUSLIM increase does not appear in your reckoning. You seem to have ignored the chilling cry below where a deputy political editor of a mass circulation daily in the United Kingdom is warning in these words:
MUSLIM MEN ‘HAVING UP TO 20 CHILDREN’ AS SHARIA LETS THEM HAVE MULTIPLE WIVES.” 

By Steven Swinford, Deputy Political Editor.
Does it say anything to you?
 
In our dear Bharat it was the same attitude in 1700 AD when a Hindu scholar said, “They are only .01 percent. Where is the danger from Islam?” His was CONVINCING logic and everyone kept quiet until……………….
…………….until 1947 when their NUMBERS had reached more than 50 per cent in five provinces of India and the blood of Hindus flowed freely through the rivers turning the water RED. You should have heard the anguished shrieks of the thousands of abducted Hindu/Sikh girls being brutally raped and savaged by the followers of Mohammed when millions were FLEEING in all directions for safety. 
 
The ALARM BELLS rang on March 23, 1940, when Mr Jinnah declared, “Now we are NUMERICALLY in a position to put our foot on Gandhi’s head and demand PARTITION!”
In the event he did not have to put even a finger on Gandhi’s head who foresaw the mass slaughter of the Hindus as if Ahmed Shah Abdali had struck “Lady Bharat” again. Demand for PARTITION was approved instantly, and NEHRU even sent a congratulatory TELEGRAM to Mr Jinnah when he (JINN) became the Governor General of the new Islamic State of PAKISTAN created within the borders of India.
Leena ji, today we have clear HINDSIGHT about the Muslims and by the Grace of God also the FORESIGHT to see the plight of Hindus in LAHORE repeated in DELHI in a few decades’ time.
You and I will not be there but we can safeguard the lives of our grandsons and the dignity of our granddaughters right now!
Please do come back if you have nothing to do with the two million Hindus who perished at Partition, and if you do not “relate” to the (Hindu) Lahore and the (Buddhist) Chittagong, and if you see NO difference to the SECURITY of Bharat whether the frontier is at KHYBER PASS or at WAGAH / ATARI!
 
Dhanyavaad.
 
regards
rajput
6May2020

एक सन्यासी का राष्ट्र के गृहमंत्री को संदेश

From: Vinod Kumar Gupta < >

15 फरवरी 2020

सेवा में
श्रीमान अमित शाह जी
गृहमंत्री भारत सरकार
नई दिल्ली

विषय:एक सन्यासी का राष्ट्र के गृहमंत्री को संदेश

महोदय,

मुझे नही पता की मेरा यह पत्र आपको मिलेगा या नहीं मिलेगा। आप इस पत्र को पढ़ पाएंगे या नहीं पढ़ पायेंगे।मेरे जैसे लाखो साधु इस देश में हैं और आप इस महान राष्ट्र के यशस्वी महानायक हैं जिसके मजबूत कंधो पर सम्पूर्ण सनातन धर्म और भारत राष्ट्र की रक्षा का भार है।इस कारण से मुझे लगता है की ये लगभग असम्भव बात है की मेरा यह पत्र आप तक पहुँचे,फिर भी मैं सनातन धर्म का सन्यासी होने के कर्तव्य को पूरा करने के लिये आपको यह पत्र लिख रहा हूँ।

13 फरवरी 2020 को मैं दिल्ली विधानसभा के भा ज पा की हार को लेकर आपके बयान को सुन रहा था।आपके बयान को सुनकर मेरा दिल बैठ गया क्योंकि आपका बयान बहुत ही निराशाजनक और सच्चाई से परे था।मुझे नहीं लगता की ये आपका बयान हो सकता है।शायद आपके कुछ कायर, कमजोर और सत्तालोलुप साथियों ने आपको भ्रमित करके आपसे यह बयान दिलवाया है।मेरा ऐसा मानने के कुछ ठोस कारण हैं।मेरा जन्म एक काँग्रेस समर्थक परिवार में हुआ था परन्तु मेरे जीवन मे घटित कुछ बहुत ही घृणास्पद घटनाओ ने मुझे एक जागरूक हिन्दू बनाया और मैं हिन्दू संगठनों की ओर मुड़ा और बहुत निराश हुआ।मैं लगभग 20 साल तक संघ परिवार के विभिन्न संगठनों से जुड़ा रहा।संघ परिवार को बहुत नजदीक से देखने के बाद मेरी ये धारणा बनी की संघ परिवार मेरे गुरु जी परम आदरणीय स्वर्गीय बैकुंठ लाल शर्मा”प्रेम सिंह शेर” जी(पूर्व सांसद),परम आदरणीय स्वर्गीय श्री बी पी सिंघल(पूर्व राज्यसभा सांसद) तथा अन्य कुछ अति महत्वपूर्ण अपवादों को छोड़कर
सत्तालोलुप लोगो की एक ऐसी जमात है जो केवल हिंदुत्व के नाम पर हिन्दुओ का शोषण करना जानती है और करती हिन्दुओ के लिये कुछ भी नहीं है।स्वर्गीय प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी के कार्यकाल और वर्तमान प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी का प्रथम पांच वर्षो के कार्यकाल ने मेरी इस धारणा को हर तरह से मजबूत किया।अपनी इस धारणा के बाद भी मैंने अपने जीवन मे एक बार के अलावा कभी भी भा ज पा को छोड़कर किसी और को वोट नहीं दिया।एक बार मेरी बहुत मजबूरी थी।मेरे मुस्लिम बाहुल्य कस्बे में नगर पंचायत अध्यक्ष पद के लिये केवल एक हिन्दू खड़ा था,तो मुझे उसे वोट देना पड़ा।वस्तुतः मैं सनातन धर्म के भविष्य को लेकर बिल्कुल निश्चिंत हो चुका था की अब तो हमे मिटना ही है।मुझे आशा की कोई किरण दिखाई नहीं दे रही थी।
लेकिन श्री नरेन्द्र मोदी जी के दूसरे कार्यकाल में आपके गृहमंत्री बनने के मुझे लगा की कुछ लोग हैं जो सनातन धर्म को बचा लेंगे।मैं आपका बहुत बड़ा प्रशंसक बन गया और आपके कारण मुझे नरेंद्र मोदी जी में भी विश्वास जागृत हुआ।

आज मैं आपसे बस इतना कहना चाहता हूं की योद्धाओ के जीवन मे हार जीत आती रहती हैं।जो इतिहास रचने वाले योद्धा होते हैं, वो किसी हार से विचलित नहीं होते बल्कि हार जाने के बाद आत्ममंथन करके अपनी गलतियों को सुधार कर महान लक्ष्य और विजय की ओर बढ़ते हैं।आप और मोदी जी हमारे वर्तमान के सबसे बड़े योद्धा हैं।क्षण प्रतिक्षण इतिहास आपके प्रत्येक कार्य कलाप पर दृष्टि जमाये हुए है।मेरा आपसे विनम्र अनुरोध है की किसी भी परिस्थिति में धर्म और धैर्य का परित्याग न करें।

कुछ छोटी छोटी बातो की ओर आपका ध्यान दिलाना चाहता हूँ।आप दिल्ली विधानसभा में इसलिये नहीं हारे हैं की लोगो ने उग्र हिंदुत्व को नकार दिया है।ये तो आपको वो लोग बता रहे हैं जो या तो इस देश की जड़ो से कटे हुए लोग हैं या आपके शत्रु हैं।दिल्ली विधानसभा सहित कई दूसरे राज्यो में आपको हिन्दुओ ने पिछली बार से कम वोट नहीं दिए हैं।इसका अर्थ है की आपका वोट बैंक लगातार बढ़ रहा है।यदि आप शाहीन बाग में इस्लाम के जिहादियो और राष्ट्र के शत्रुओं के प्रति ढुलमुल नीति को छोड़कर कठोर नीति अपनाये होते तो आज स्थिति बिल्कुल भिन्न होती और दिल्ली विधानसभा के भा ज पा की सरकार बनी होती।

भा ज पा की हार में एक विशेष कारण आपकी पार्टी के नेताओ विशेषरूप से जनप्रतिनिधियो का अहंकार और कार्यकर्ताओं से उनकी दूरी भी है।अगर आप वास्तव में इस राष्ट्र के लिये कुछ ठोस करना चाहते हैं तो आपको इस ओर बहुत ध्यान देना पड़ेगा।

आपकी पार्टी की दिल्ली में दुर्गति का एक सबसे बड़ा कारण राजधानी में बढ़ता हुआ हिन्दू उत्पीड़न और उस पर आपकी पार्टी के नेताओं और संघ परिवार का शर्मनाक मौन है।आपकी पार्टी कभी भी अपने मतदाताओ और समर्थकों के सम्मान और स्वाभिमान की रक्षा के लिये कभी कुछ भी नही करती जबकी आपकी विरोधी पार्टिया अपने मतदाताओ और समर्थको के लिये हर परिस्थितियों में साथ खड़ी रहती हैं।मैं आज तक ये कभी नही समझ पाया की जब अन्य पार्टिया इस्लाम के जिहादियो,आतंकवादियों, देशद्रोहियो तक के साथ गर्व से खड़ी हो सकती हैं तो आप और आपके नेता देशभक्तो,राष्ट्रवादियो और कट्टर हिन्दुओ के साथ क्यो नही खड़ी हो सकती।आपकी इस कमी से भी आपके समर्थको का एक बड़ा वर्ग अब उदासीन होता जा रहा है जिसका लाभ हमारे शत्रुओ को हो रहा है।आपसे निवेदन है की इस ओर ध्यान देने की कृपा करें क्योंकि राष्ट्र रक्षा और पुनर्निर्माण जैसे बड़े और महान लक्ष्य स्थायी साथियो के बिना कभी भी प्राप्त नहीं किये जा सकते।आपसे अनुरोध है की विस्तार जरूर करिये परन्तु अपनी जड़ों अर्थात अपने आधारभूत समर्थको और साथियो से जुड़े रहिये।आपको यह समझना ही पड़ेगा की केवल और केवल हिन्दू ही आपका आधार है और हिन्दुओ के विरोधी कभी भी किसी भी कीमत पर आपका साथ नहीं देंगे।

अंत मे बस एक बात और,अपनी पार्टी की असफलता और हार के लिये कभी भी हिंदूवादी नेताओ और उनके बयानों को मत जिम्मेदार ठहराइये क्योंकि यही लोग जनता में आपकी पार्टी की विश्वसनीयता के रक्षक हैं वरना तो इस समय समस्त हिन्दू समाज का मनोबल रसातल पर है।

देवाधिदेव भगवान महादेव शिव और जगद्जननी माँ जगदम्बा से प्रार्थना करता हूँ की वो मोदी जी पर और आप पर सदैव अपनी कृपा बनाये रखें और आप दोनों का यश युग युगान्तर तक गाया जाता रहे परन्तु इसके लिये आप दोनों को सभी तरह के संशय का त्याग करके सभी सनातन धर्म और भारत राष्ट्र के शत्रुओ से निर्णायक युद्ध करना ही पड़ेगा।

कुछ और बाते हैं पर वो फिर कभी।

आपका शुभचिंतक

यति नरसिंहानन्द सरस्वती
शिवशक्ति धाम,डासना
(जिला) गाज़ियाबाद