Duty of Elected Officials in Bhaarat

Duty of Elected officials in Bhaarat

by Nitina Sehgal < >

You the elected people of the country must act immediately to save India to fall into the hands of Jihadists

  1. Stop distributing free Koran and free laptops to Muslim students in Islamic Madrassas (Mad-houses).Who were those Jaichand type advisers that have encouraged and promoted Islamic Jihadist tendencies?
  1. Stop India now to be the major supplier of beef (murdered Cows’ dead bodies).It is the biggest Karmic gridlock against the nation. It is a reminder to all those leaders that have made India the major exporter of beef will have serious repercussions. Already witnessed the Karmic repercussion due to coronavirus, covid -19, loss of millions of crores, loss of business, millions unemployed, millions affected by the disease, and died. This is the most single reason for nations to fall down and great civilizations disappeared. All these boys who have made billions of dollars are misbehaving by trying to be above the Cosmic Universal Karmic Law, and currently, their advice is being pursued by today’s leadership. The best advice is to stop their selfish advice, not taken into consideration national Karmic implications by making India flowing the rivers of blood of helpless innocent four-legged sentient beings in their commercialization.
  1. Stop three (3) lakhs, Islamic Madrassas now (no more government funding). Why do you fund them? Did you read Koran? Do you know what Islamic fanatic Allah inserts vicious statements against infidels?
  1. Stop four marriages for Muslims. Make immediately uniform laws.
  1. No more Sharia, any part of the country.
  1. 6.Teach every child compulsory education of Bhagavad-Gita while simultaneously exposing evil demoniac irreligious practices. taught under various baseless mindless senseless sectarian orders of the Middle-east desertification books.
  1. Muslims should not be allowed more than two children. To please Hindus, leaders made a new law that anyone having more than two children will not get government jobs. Well, Hindus got lollipops, like triple tallaaq cases. Did you see how much Hindus are fooled by their tricks? Do you think most Muslims care that much for government jobs? 99% of Muslims want to follow strictly Sharia.

WHAT IS THEIR OBJECTION TO STOP A MUSLIM FROM MARRYING, FOUR WIVES? Did you ask these leaders? Are they so happy with their international rating that they do not care to stop this very nonsense that will lead to India’s destruction of democracy, once in the next 20 years Muslim population reaches 50%?

Just think, if a Muslim is marrying with four wives, how will he have only two children, when he knocks down all four wives simultaneously?

This two children law itself contradicts Muslims’ lifestyle of four marriages, which is being allowed by the government of India.

What benefit did Hindus. and India get from triple Talaqs? Nothing but except empowered Muslim women who made too much noise by demonstrating against Modi and CAA-Citizen bill in Shaheen Bagh, Delhi for more than three months, “WE WANT AZADI?”

Even after giving them freedom from triple talaqs, still, these viciously charged Muslim women went against Modi and demanded Azadi.

Did anyone ask these foolish Muslim women, “What kind of Azadi did they need in a free democratic nation?”

These Muslim women cost over 200 crores worth of economical loss. They were well off by going through Triple Talaq as the entire Islamic family gang was involved in fighting over these issues. In Halala cases, if the second husband did not divorce willfully the wife of the first husband who had originally given the divorce, both old and new husband used to fight with knives, killing each other.

The system was well working within, not keeping any Islamic marriage comfortable. If you can not stop Islam, do not decorate Islam by removing some of their evil Islamic tendencies thus making them stronger Muslims to act against infidels.

  1. Stop fooling Hindus by appeasing methods trying to exist and buying time for selfish greed, position, and power as neither Gandhi’s ‘Allah Ishwar Tero Naam’ has made Muslims happy, rather fooled Hindu girls psychologically unprepared by Allah’s insertions in Koran to lure women for sex-slaves by methods of Love Jihads. Stop distributing free Koran and Laptops in the same line of Gandhi’s appeasing methods.
  1. Keep away business-minded greedy advisers from the government. They will invite in their daughter’s marriage Mamta, Sonia, and all anti-national traitors because their main aim is to mint money, regardless of the nation goes to hell. So they will play many tricks to buy time, like Jai Chand traitor, and advice to distribute free Koran to make Muslims happy but in the process, they are encouraging Islam, and bringing their end closer, like now in Afghanistan under the hands of Taliban.
  1. Silently, round up top Islamic terrorists from each area and send them to the dungeon where they are made anti-virus through the Science of Bhagavad-Gita’s message, as has been very well explained by Acharyaji in his past many writings to Modi, and other leaders? Then leave them back after six months among terrorist-ridden areas.

Classes start from 5 AM with Hindu Bhajan, the teaching of Vedic Science, condemning criminal violence under Allah’s foolish insertions, exposing simultaneously all contaminated minds full of evil thoughts, discussing on the mind, body, soul, consciousness, universal principles, the Absolute Truth, the Karmic law, Dharma, Gyan education; understanding the meaning of Soul, transmigration and evolution of souls.

Why so many animals? 

One set vegetarian eating Herbivores, and another set carnivores, sharp razor-like blade teeth, claws.

Is God imperfect or do humans learning imperfection lead to their self-created consciousness into the bodies of carnivores? It is important that such large underground schools must be established for hardcore terrorists in Correction Centers. Naturally, you must get guidance from Acharyaji only, not some of your favored friends. Do you think India could not become the number one in the Olympics? That is the same thing. Not prepared to cope up with the situation. Just taking it easy by all sorts of vote bank policies. But if you serve the society of one billion Hindus with righteous understanding, there is no way such a government of BJP can ever perish. In other words, take into consideration Universal Principles of Religion, the science of pure Dharm-Gyan- Karm before understanding any project for the national interest.

  1. The only one person India needs must be an unbiased adviser — please read. His name is OM, the one who appeared as the personified Bhagwan Sri Krishn Ji, 5,200 years ago or unless you want the advice of all combined World-Class Fools? All of you have a choice to save Bharat Mata or sink the boat of Bharat Mata. The choice is yours. India needs true Kshatriya Dharma Protector in a true sense. Then listen to the greatest advice of Acharyaji to save Ma-Bharti by quickly implementing 1-11 items as written above

Literally, Koran must be stopped by all means if truly you want India’s democracy to be saved.

Just simply stop Islam, how?

“Terrorists have no religion,” a false narrative by Muslims for kafirs

“Terrorists have no religion,” a false narrative by Muslims for kafirs

“Terrorists have NO religion.”
 
Most of the terrorists known all over the world are Muslims.
When they are killed or die, the Muslims do their funeral/ burial.
That is solid proof that the terrorists were Muslims; 
so the source of preaching to do terrorism against the kafirs is Koran.
This is not an opinion, but  a fact that can be verified objectively.
 
All the religions whose cradle is not Bhaarat, are religions or majhabs.
Islam, Xinity, and Judaism are majhabs (religions.)
Each of these have a prophet that lived in our known history, mostly within 2000 years.
He, and or his followers created the majhab.
 
In contrast,  Hinduism (which is not an “ism”, a man-made ideology like communism, socialism, etc.) is universal DHARMA for mankind. It is the oldest, and there is no concept of a prophet in Dharma. Its root book is the Veda, which is systematically divided into four Veda, containing 20,000 hymns in Sanskrit.
 
Note on a side point: Sanskrit is a rule and logic based language, and therefore, the computer programmers of NASA love it.  This Devanagari script has 36 consonants and 12 vowels.
With facility we write the sounds of spoken words. Most Indian languages aer based on Sanskrit, and therefore, no Indian asks how to spell a name, unless it is an English name.
We write what we hear, and the reader pronounces it correctly. 
 
Coming back to DHARMA: The 700-verse summary of the Veda is Srimad Bhagavad Gita, which is a conversation that took place in Kurukshetra battlefield 5118 years ago between Arjun, and Krishna, the Supreme God incarnated.  So, for our time, Gita is sufficient to understand Dharma. It provides complete Spiritual Science; and to live in consideration of the spiritual science is our (mankind’s) Dharma or Hinduism.
To live in disregard of the Spiritual Science is adharma or demoniac or sinful act.
The benefit of living per Dharma correctly is that one lives more and more sin-free.
More seriously one lives per Dharma, more sin-free one lives, and develops godly qualities. Those who completely live sin-free are recognized as saints, saadhus, or swamis. They have the qualification to guide society on how to live sin-free, and realize God. Bhaarat has produced millions of great spiritual giants over millennials. Even today you could find such saints, males of females.
The correct name of Hinduism is:
Sanaatan Dharma, or Varna-aashram dharma, of Vedic dharma.
Dharma gives maximum freedom of thought, speech, and action.
It tells mankind to seek the truth, material, and also spiritual.
More importance is given to seeking the spiritual truths, or knowing the spiritual science, so that one can live life in consideration of the peace.
If one lives sin-free, one lives happily and it does not create problems for anyone.
Bottom line: Hinduism is not a religion but Dharma.
Most terrorists (who also are aggressive) are Muslims.
So, the thread title may be changed.
If you consider human brain as a computer, then Islam is s deadly virus;
and Pakistan has thousands of madrassas where they inject Islaam-virus in the young brains who then grow as terrorists and suicide bombers.
 
{Want a world free from terrorism?
Then introduce an education system with text books on Hinduism.}
 
The Vedic culture has no such a thing.
Peace is not possible where there is Islaam.
If any reader has firmly determined that Hinduism is bad,
then please do not ask me any questions.
On the other hand, those who are genuinely interested to know more about Dharma with a friendly attitude, they are welcome to ask questions; and I would be glad to answer as I have understood it from my guru and from Vedic scriptures.
 
jaya sri krishna!
-sv
==
A comment by Sanjeev Kulkarni < >:

Cremate the bodies of slain terrorists.  By the reaction of others,
you will immediately know whether these terrorists had a religion or not.
It is a very simple test.

“Why Blame Islam? Religion does not kill, People Kill.”

From” Tilak Shrestha < >

Dear all:
Namaste!
Of course, the evil Islam to be blamed, not Muslim people. Muslims themselves are victims of the evil Islam. If Islam instigates Muslims to kill, loot and rape non-Muslims; then as the first order of business non-Muslims must defend themselves, and kill these attackers.
The second order of business is to analysis why the aggression. Answer is simple, Islam teaches to attack (non-Muslims.) (If this were not so, then) why did you (Muslims) destroyed Bamian Buddha? It shows the black heart of Islam.
Dharma is not Religion. Dharmas do(es not tell to) attack. (It is)  about spirituality (spiritual science.) ( In contrast) Religions are about militarization of society and attacks.
Here are a few notes on the subject for your enlightenment.
WARNING! Don’t try your evil Jihad on us. We will retaliate, and stick your evil Islam up your behind.
Thanks, Tilak

*दानिश सिद्दीकी की मुस्लिम जिहादी पत्रकारिता के प्रमाण देखिए*

From: Vinod Kumar Gupta < >

*राष्ट्र चिंतन*

 *दानिश सिद्दीकी की मुस्लिम जिहादी पत्रकारिता के प्रमाण देखिए*

 

 *भारत व हिंदुत्व की कब्र खोदने  के लिए दानिश सिद्दीकी जैसे* *पत्रकार पैदा किए जाते हैं*

********************************

 

 *आचार्य श्री  विष्णुगुप्त*

 

*******************************

अफगानिस्तान में तालिबान के हाथों मारा गया राइटर का फोटोग्राफर ,पत्रकार दानिश सिद्दीकी को जो लोग भी बहुत बड़ा और निष्पक्ष तथा सेक्युलर  पत्रकार फोटोग्राफर मानते हो, उन्हें निम्नलिखित प्रश्नों का उत्तर देना चाहिए?

   पहला यह कि कोरोना से मरने वाले मुस्लिम देह की दफन होती कोई तस्वीर क्यों नहीं खींची थी और उस तस्वीर को वायरल क्यों नहीं किया था ? दूसरा यह कि अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में कोरोना से कोई एक या दो नहीं, बल्कि  50 से अधिक मुस्लिम प्रोफेसर मारे गए थे पर उसने उनकी तस्वीर वायरल क्यों नहीं क्यो नहीं किया था!  तीसरा यह कि कोरोना काल में तबलीगी जमात के हजारों लोग कोरोना फैला रहे थे, पुलिस पर सरेआम थूक रहे थे, पुलिस पर सरेआम थूकने वाले मुस्लिमों की कोई तस्वीर उसने वायरल क्यों नहीं किया था?  चौथा  यह कि लॉकडाउन को लागू कराने के लिए कराते समय उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान सहित अन्य प्रदेशों में मुस्लिम भीड़ सरेआम पुलिस को पिटती है ,बर्बर मुस्लिम भीड़ की कोई तस्वीर उसने क्यों नहीं वायरल किया था?  पाचवा  यह कि ईद के दिन मुस्लिम समुदाय के लोग सरेआम लोक डाउन की धज्जियां उड़ाई थी पर क्या उसने कोई तस्वीर वायरल किया था? छठवां  यह कि हर साल शबे बरात के दिन दिल्ली की सड़कों पर रात में गुंडागर्दी होती है ,राहगीरों को पीटा जाता है, पुलिस को चुपचाप रहने के लिए विवश किया जाता है, शबे बरात की गुंडागर्दी की तस्वीर उसने कभी वायरल क्यों नहीं किया था?  सातवां यह कि सीए कानून के खिलाफ प्रदर्शनों का उसने खुब तस्वीरें खींची थी, विरोध प्रदर्शनों के दौरान मुसलमानों द्वारा पत्रकारों और आम लोगों की हुई पिटाई की की तस्वीरें क्यों नहीं वायरल किया था? आठवां यह कि रोहिंग्या मुसलमान किस प्रकार से बच्चे पैदा कर रहे हैं, रोहिंग्या मुसलमान कई कई बीवियां और दर्जन बच्चे पैदा कर रहे हैं, इसकी कोई तस्वीर क्यों नहीं वायरल किया था? मोब लिनचिंग में हिंदुओं की हुई बर्बर हत्या की कोई तस्वीर उसने क्यों नहीं वायरल किया था? दसवां  यह कि दिल्ली की सड़कों पर चहल कदमी करने वाली गायों और अन्य जानवरों को मुस्लिमों के बच्चे दिन में बेहोशी की सुई दे देते हैं और रात में मुस्लिमों के बच्चे के पिता और अन्य मुस्लिम उन गायों और अन्य जानवरों को उठाकर बध कर देते हैं ,इस साजिश और अपराध की कोई तस्वीरें उसने क्यों नहीं खींची और वायरल किया था ?

 

 इसके उल्टा दानिश सिद्दीकी का मुस्लिम जिहाद देखिए,  हिंदू द्रोह देखिए, भारत को बदनाम करने वाला उसकी देशद्रोही करतूत तो देखिए, उसकी एजेंडा बाज पत्रकारिता देखिए , उसकी इस्लाम के की काफिर मानसिकता के प्रति समर्पित पत्रकारिता देखी देखिए । कोरोना की दूसरी लहर के दौरा उसने हिंदुओं की जलती चिताओं की खूब तस्वीर खींचकर भारत को बदनाम करने का काम किया था। उसकी एजेंडाबाज तस्वीरों की भारत विरोधियों ने खूब सराही थी और भारत विरोध का हथकंडा बनाया था । रोहिंग्या मुसलमानों के पक्ष में उसने खूब दिलचस्पी दिखाई थी, रोहिंग्या को पीड़ित बताने का जिहाद चलाया पर उसने कभी भी उनकी आतंकवादी करतूत नहीं खोली थी, नहीं बताया कि रोहिंग्या मुसलमान म्यांमार  में आतंकवादी करतूत में लिप्त थे, रोहिंग्या मुसलमान भारत में आतंकवादी और आबादी आक्रमण के प्रतीक हैं।

 

दिल्ली दंगा एक बड़ी मुस्लिम साजिश की करतूत थी , दिल्ली दंगे के तार देश के मुस्लिम संगठनों और पाकिस्तान, आईएएसआई तक जुड़े हुए थे । पीएफआई जैसे मुस्लिम संगठनों की भी संलिप्तता थी।  पर उसने कभी भी इसे उजागर नहीं किया। दिल्ली दंगों में मारे गए हिंदू की कोई उल्लेखनीय तस्वीर या रिपोर्ट उसने नहीं की थी।

 

हलाला से प्रतिवर्ष हजारों मुस्लिम महिलाएं आहत होती हैं ,पीड़ित होती हैं पर उसने कभी भी हलाला पीड़ित मुस्लिम महिलाओं का दर्द नहीं समझा ,विपत्ति नहीं समझी । हलाला पीड़ित मुस्लिम महिलाओं की कोई तस्वीर नहीं खींची और न हीं कोई तस्वीर वायरल की । मौलवी सरेआम अंधविश्वास फैलाते हैं पर उसकी नजर में सिर्फ साधु ही गुनाहगार थे।  देश के कोने कोने में मुसलमानों द्वारा हिंदू मंदिरों को तोड़ना ,अपमानित करना जारी है। पर वह उस पर खामोशी नहीं तोड़ता था।  कश्मीर में लाखों हिंदू विस्थापित होकर दर-दर की ठोकरें खाते रहे हैं पर उसकी कोई प्रतिक्रिया फोटोग्राफी में नहीं दिखती थी।

 

अभी पड़ताल की बात यह है कि उसने इस्लाम से जुड़ी ही कुरीतियों, जिहाद और करतूतों पर कभी भी कलम या फोटोग्राफी चमकाई क्यों नहीं ? जाहिर तौर पर दानिश कोई सैक्यूँलर तो था नहीं ,वह कोई निष्पक्ष तो था नहीं, उसके अंदर में कोई मानवता के प्रति समर्पण तो था नहीं, वह फिर था क्या? उसका समर्पण किसके प्रति थी ? वह एक घोषित तौर पर मुसलमान था और उसका समर्पण सिर्फ और सिर्फ इस्लाम के प्रति था।  कोई भी मुसलमान सच्चा मुसलमान तभी होगा जब वह इस्लाम को पूर्णत: स्वीकार करने वाला होता है, इस्लाम के मूल्यों के प्रति बंधा होता है,  इस्लाम की काफिर मानसिकता के प्रति उनका समर्पण होता है, इस्लाम की बुराइयों और कुरीतियों के प्रति चुपचाप रहता है । दानिश सिद्दीकी की एक कट्टर और समर्पित मुसलमान था।  इसलिए इस्लाम की क्रूरता, आतंकवाद एवं काफिर मानसिकता के खिलाफ में उसकी कलम, फोटोग्राफी  कैसे चमकती? इसीलिए वह हलाला, आबादी बढ़ाओ ,इस्लामी घुसपैठियों के खिलाफ फोटोग्राफी चमकाने से परहेज करता था।

 

इस्लाम की काफी मानसिकता कोई एक नहीं बल्कि कई स्तरों पर कार्य करती है। कुरान में काफी को मारने के लिए आदेश दिया गया है। काफिर की महिलाओं को रखेल बनाकर रखना, काफिर महिलाओं के साथ बलात्कार करना, काफिर की छवि खराब करना ,काफिर की संपत्ति पर कब्जा करना आदि की करतूत को अपराध नहीं माना गया है, बल्कि ऐसा करने वालों को सच्चा मुसलमान कहा जाता है। और उसे जन्नत मिलने, जन्नत में हूरे और सुंदरियां मिलने  का आश्वासन मिलता है। यही कारण है कि ऐसा करने वाले मुसलमानों ,आतंकवादियों अपराधियों को मुसलमानों द्वारा संरक्षण दिया जाता है, उसकी करतूतों पर पर्दा डाला जाता है, ऐसी मुस्लिम करतूत भारत से लेकर पूरी दुनिया में देखी जाती है ,प्रमाण के साथ सच देखने को मिलता है।  दुनिया के अंदर में क्या कभी आपने यह देखा या सुना है कि कोई मुस्लिम या कोई मुस्लिम समूह अपराधी आतंकवादी आदि को पकड़कर पुलिस, सेना या पीड़ित पक्ष को प्रस्तुत करता है।  इसका सर्वश्रेष्ठ उदाहरण इजराइल की नीति है, इजरायल की सुरक्षा नीति कहती हैं कि उसके बम और मिसाइल वहीं  गिरेंगे जहां आतंकवादी और अपराधी छिपे हुए हैं। आतंकवादी तो आसमान में रहते नहीं है, यह तो मुस्लिम आबादी के बीच में ही शरण पाकर रहते हैं।

 

 दानिश सिद्दीकी जैसे के लिए भारत एक  काफिर  देश ही है। भारत के हिंदू उसके लिए काफिर ही हैं । इसीलिए वह इस्लाम का काफिर विरोधी कुरान की आयतों का पालन करता है और भारत की छवि, हिंदुओं की छवि खराब करता है। इस्लाम और मुसलमानों की छवि को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष तौर पर बचाव करता है, उसके ऊपर पर्दा डालता है।

 

 दानिश सिद्दीकी को पुलज्जर जैसे अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार क्यों मिलता है?  उसे बहुत बड़ा पत्रकार और फोटोग्राफर क्यों कहा जा रहा है ?उसकी हत्या पर छाती क्यों पिटी जा रही है ?उसे श्रद्धांजलि देने के लिए कुकुरमुत्ता की तरह लोग क्यों मरे जा रहे हैं ? इसको समझने बुझने के लिए दो प्रमुख उदाहरणों को देखना होगा , समझना होगा । पहला उदाहरण  भारत विरोधियों एवं मुस्लिम समर्थकों की सोच है ,इसी सोच पर आधारित अभी-अभी एक अमेरिकी अखबार के रिपोर्टर की नियुक्ति का विज्ञापन आया था। विज्ञापन में रिपोर्टर की अहर्ताएं यह रखी गई थी कि वह भारत विरोधी हो, भारतीय अस्मिता के खिलाफ लिखता हो और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का घोर विरोधी हो आदि आदि। इसी अमेरिकी अखबार कसौटी पर दानिश सिद्दीकी, भारत , हिंदू और नरेंद्र मोदी का विरोधी था।  इसी कारण वह राइटर का फोटोग्राफर की ऊपरी सीढ़ियों तक पहुंच जाता है। दुनिया का सबसे बड़ा पुरस्कार पुल्जर हासिल कर लेता है।

दूसरा उदाहरण अल जजीरा का है ।अल जजीरा एक मुस्लिम मीडिया संस्थान है।  उसने आईएस को कितने मुस्लिम अपना आइकन मानते हैं इस पर एक सर्वे आयोजित किया था । सर्वे में चिंताजनक और खतरनाक तौर पर तथ्य सामने आए। कोई एक दो नहीं बल्कि 82 प्रतिशत मुसलमानों ने आतंकवादी संगठन आईएस को अपना  आइकॉन माना। अल जजीरा इस्लामिक जिहाद देखिए ,इस्लाम के प्रति उनका समर्पण देखिए ,पत्रकारिता की कब्र खोदने वाली उसकी मानसिकता को देखिए।  उसने अपने रिपोर्ट में कहा कि कुछ ही मुसलमान आतंकवादी संगठन आईएस को अपना आइकॉन मानते हैं । जबकि उसे अपनी रिपोर्ट में यह कहना चाहिए था कि अधिकतर मुस्लिम आतंकवादी संगठन आईएस को अपना आइकॉन मानते हैं । जिस तरह से अल जजीरा ने मुस्लिमों के प्रति अपना समर्पण दिखाया उसी प्रकार दानिश सिद्दीकी जैसे हजारों मुस्लिम पत्रकार सिर्फ और सिर्फ इस्लाम के प्रति एजेंडा पत्रकारिता करते हैं । बीबीसी सहित अधिकतर विदेशी मीडिया संस्थान ,मुस्लिम वर्ग से आने वाले पत्रकारों की नियुक्ति कर भारत की कब्र खोदने में लगे रहते हैं। दुनिया की मुस्लिम और ईसाई मानसिकता से ग्रसित मीडिया को हिंदुओं की जागरूकता और नरेंद्र मोदी के शासन से खुजली होती है।

 

अब भारत में दो प्रकार के नागरिक हो गए हैं । एक नागरिक वह है जो अपने राष्ट्र के प्रति समर्पित हैं, जिन्हें देश भक्ति भाती है ,देशभक्ति पर मरने मिटने की तमन्ना रखते हैं, पर उन्हें दंगाई कह कर उपहास उड़ाते हैं । दूसरे किस्म के नागरिक वे लोग हैं जो भारत को अपना भविष्य बनाने का हथकंडा तो जरूर बनाते हैं पर उन्हें भारत की अस्मिता, भारत का गौरव, भारत की  पुरातन संस्कृति स्वीकार नहीं है। इसीलिए ऐसे किस्म के नागरिक  हमेशा  कभी भारत की कब्र खोदते हैं तो कभी भारत विरोधी नारे लगवाते हैं ,तो कभी भारत की छवि खराब करने वाली पत्रकारिता को अंजाम देते हैं । दूसरे किस्म के नागरिकों के लिए दानिश सिद्दीकी जैसे मुस्लिम एजेंडा बाज पत्रकार आइकॉन तो हो सकता है पर राष्ट्रभक्त नागरिकों के लिए दानिश सिद्दीकी जैसे प्रतीकों के प्रति  सतर्क और सजग रहने की जरूरत है । राष्ट्र भक्त नागरिकों के लिए दानिश सिद्दीकी जैसे मुस्लिम एजेंडा बाज पत्रकार खलनायक ही है।

*********************************

 *संपर्क  :*

 *आचार्य श्री विष्णुगुप्त*

 

Mobile..  93 15  20  61  23

Date .. 17 / 07 / 2021

     *New Delhi*

न्यायायिक व्यवस्था की कैसी विवशता      02.7.2021

From: Vinod Kumar Gupta < >

न्यायायिक व्यवस्था की कैसी विवशता      02.7.2021

देश की न्यायिक व्यवस्था की विवशताओं को समझना अब अति आवश्यक होता जा रहा है l इसके लिए शासन को साहसिक प्रयास करना चाहिए l वास्तव में कानून की कुछ कमियों व अस्पष्टताओं का अनुचित लाभ उठा कर आरोपियों को अपराधी प्रमाणित करने में असमर्थता एक गम्भीर चुनौती बन चुकी हैं l इसी कारण वर्षो से जघन्य अपराधी भी कानून के शिकंजे से बचते आ रहे हैं l दिल्ली दंगों के दोषियों को दिल्ली उच्च न्यायालय द्वारा जमानत देना और 133 पृष्ठों का निर्णय सर्वोच्च न्यायालय को तार्किक समीक्षा के लिये विवश कर सकता है l सर्वोच्च न्यायालय ने जमानत के लिये इतने लंबे निर्णय पर आश्चर्य  व्यक्त किया l

यह कहना कदापि अनुचित न होगा कि “नागरिक संशोधन अधिनियम” के विरोध की आग जो शाहीनबाग में सौ दिन से सुलग रही थी उसकी दुर्गति दिल्ली दंगों के रूप में हुई l उच्च न्यायालय द्वारा इसके दोषियों को सरकार की नीतियों के विरुद्ध प्रदर्शन के सामान्य अधिकारों के अन्तर्गत मानना अवश्य चिंता का विषय है l राजनीति में सत्तारुढ़ दल का विरोध करना अलग बिंदु है, लेकिन शासन के निर्णयों से सहमत न होने का अर्थ यह नहीं कि अभिव्यक्ति के नाम देश विरोधी षड्यंत्र रचने की छूट मिल गयी l संविधान में हमें सरकारी नीतियों औऱ निर्णयों के विरुद्ध केवल शांतिपूर्वक अहिंसात्मक आंदोलन का मौलिक अधिकार है न की अराजकता, आगजनी व अन्य किसी भी प्रकार का हिंसात्मक आंदोलन के लिए उकसाने और रक्तपात कराने का l पिछले वर्ष फ़रवरी माह में हुए दिल्ली दंगों के सूत्रधार सी ए ए के विरूद्ध देशव्यापी आंदोलन भड़काने वाले तत्वों को सामान्य दोषी मानना बहुत बड़ी भूल होगी l

जामिया मिलिया इस्लामिया का छात्र आसिफ इकबाल तन्हा व जेएनयू की छात्राएं एवं पिंजरा तोड़ संगठन की सदस्य नताशा नरवाल और देवांगना कलिता संदिग्ध राष्ट्रद्रोही शरजिल इमाम, उमर खालिद व सफूरा जरग़र के सहयोगी क्यों नहीं हो सकते ? जब दिल्ली के विशेष ट्रायल कोर्ट ने आसिफ़, नताशा व देवांगना की जमानत याचिका तथ्यों के आधार पर खारिज करते हुए स्पष्ट किया कि चार्जशीट के अनुसार फर्जी कागजों को आधार बना कर सिम लिया और उसके द्वारा वाटसएप ग्रुप बनाये l इन ग्रुपों की चैट से यह स्पष्ट होता है कि अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रम्प की दिल्ली यात्रा के अवसर पर दिल्ली में जगह – जगह जाम व दंगों के द्वारा भारत सरकार को विश्व पटल पर बदनाम करने की गहन साजिश रची गयी थी l क्या विशेष ट्रायल कोर्ट द्वारा ऐसे तत्वों पर देशहित में गैरकानूनी गतिविधियां रोकथाम अधिनियम (यूएपीए) लगाना और जमानत न देना अनुचित था ?

उच्च न्यायालय द्वारा 15 जून को इन तीनों को जमानत देने और 133 पृष्ठों पर लिखे हुए निर्णय में सर्वोच्च न्यायालय को कुछ विसंगति दिखने के बाद भी इनकी जमानत पर कोई रोक नहीं लगाई l फिर भी सर्वोच्च न्यायालय के आदेशानुसार उच्च न्यायालय के इस निर्णय के आधार पर कोई भी पक्षकार भविष्य में कोर्ट में इसका संदर्भ नहीं दे सकेगा और न ही यू.ए.पी.ए. की अनदेखी की जायेगी l

उच्च न्यायालय में सोलीसिटर जनरल श्री तुषार मेहता ने इस निर्णय का विरोध करते हुए जो कहा था उसको अवश्य समझना चाहिए l उनके अनुसार कि “क्या सरकार विरोधी प्रदर्शन में बम फेंकने और लोगों को मारने का भी अधिकार होता है ? फरवरी 2020 के दिल्ली दंगों में लगभग 53 लोग मारे गये और लगभग 700 लोग घायल हुए फिर भी उच्च न्यायालय कह रहा कि “हिंसा नियन्त्रित हो गयी थी”, अतः इस मामले में यू.ए.पी.ए. लागू नहीं होगा l यानी कोई बम प्लांट करता है और बम निरोधक दस्ता उसे निष्क्रिय कर देता है तो क्या अपराध की तीव्रता कम हो जायेगी?”

17 जून की शाम को जमानत पर जब ये तीनों दोषी रिहा हुए तो तिहाड़ जेल के गेट पर स्वागत करने के लिए आये इनके समर्थकों के हाथों में  सी.ए. ए. , एन.आर.सी.  व  एन.पी.आर. आदि के विरूद्ध नारे लिखी हुई तख्तियां थी l साथ ही शरजिल इमाम, उमर खालिद व खालिद सैफी आदि को रिहा करो के नारे भी लगे और ऐसे लिखे हुए बैनर भी हाथों में लिये हुए थे l इतना ही नहीं इनकी रिहाई पर आइसा, एसएफआई व पिंजरा तोड़ सहित अन्य वामपंथी संगठनों ने भी प्रसन्नता व्यक्त की थी l विचार करना होगा कि हमारे देश के तथाकथित बुद्धिजीवियों, सेक्युलरो व लिबरलो की टोलियों ने उच्च न्यायालय के जमानत वाले निर्णय पर चर्चा अवश्य हुई परंतु सर्वोच्च न्यायालय द्वारा की गई आलोचना पर ध्यान ही नहीं दिया गया l उच्च न्यायालय द्वारा जमानत के निर्णय को देश में ऐसे तत्वों द्वारा यह जताया जा रहा है कि अभिव्यक्ति के नाम पर राष्ट्रद्रोह थोपने का प्रयास किया जा रहा था l

यदि ऐसे तत्वों का संघर्ष जारी रखने के दुस्साहस को विरोध प्रदर्शन का ही भाग माना जायेगा तो निकट भविष्य में नित्य नए-नए उभर रहे भारत विरोधी संकटों का सामना करना एवं आतंकवादी घटनाओं पर अंकुश लगाना और अधिक कठिन हो जाएगा l संसद के निर्णयों के विरूद्ध ऐसे आक्रमक तत्वों को साधारण प्रदर्शनकारी मानना सर्वथा देश की सम्प्रभुता पर एक अप्रत्यक्ष संकट को जन्म देगा l अतः देश की न्यायायिक व्यवस्था को देश में उत्पन्न हो रहे राष्ट्र द्रोही तत्वों को कठोरता से निपटने के लिए तैयार करना होगा l अब समय आ गया है कि आंतरिक सुरक्षा के लिये संकट बन रही देश विरोधी शक्तियों को कुचलने के लिए प्रभावकारी आक्रामक नीतियों व क़ानूनों का सहारा लेना होगा l यह राष्ट्रहित में होगा कि न्यायायिक व्यवस्थाओं को किसी भी प्रकार की विवशताओं से मुक्त किया जाय l

विनोद कुमार सर्वोदय

(राष्ट्रवादी चिंतक व लेखक)

गाजियाबाद (उत्तर प्रदेश)

अत्याचार जो मुगलों, चंगेजों, तुर्कों आदि ने हमारे हिंदू पूर्वजो पर किये

From:

Capt SB Tyagi < >

अत्याचार जो मुगलों, चंगेजों, तुर्कों आदि ने हमारे हिंदू पूर्वजो पर किये :

————————————————————————-
1- मैं नहीं भूला उस कामपिपासु अलाउद्दिन को, जिससे अपने सतित्तव को बचाने के लिये रानी पद्ममिनी ने 14000 स्त्रियो के साथ जलते हुए अग्निकुंड में कूद गयी थीं।
—————————————————————————
2- मैं नहीं भूला उस जालिम औरंगजेब को, जिसने संभाजी महाराज को इस्लाम स्वीकारने से मना करने पर तडपा तडपा कर मारा था।
—————————————————————————
3- मैं नहीं भूला उस जिहादी टीपु सुल्तान को, जिसने एक एक दिन में लाखो हिंदुओ का नरसंहार किया था।
———————————————————————————
4- मैं नहीं भूला उस जल्लाद शाहजहाँ को, जिसने 14 बर्ष की एक ब्राह्मण बालिका के साथ अपने महल में जबरन बलात्कार किया था।
———————————————————————————
5- मैं नहीं भूला उस बर्बर बाबर को, जिसने मेरे श्री राम प्रभु का मंदिर तोडा और लाखों निर्दोष हिंदुओ का कत्ल किया था।
———————————————————————————
6- मैं नहीं भूला उस शैतान सिकन्दर लोदी को, जिसने नगरकोट के ज्वालामुखि मंदिर की माँ दुर्गा की मूर्ति के टुकडे कर उन्हे कसाइयो को मांस तोलने के लिये दे दिया था।
———————————————————————————-
7- मैं नहीं भूला उस धूर्त ख्वाजा मोइन्निद्दिन चिस्ती को, जिसने संयोगीता को इस्लाम कबूल ना करने पर नग्न कर मुगल सैनिको के सामने फेंक दिया था।
———————————————————————————-
8- मैं नहीं भूला उस निर्दयी बजीर खान को, जिसने गुरूगोविंद सिंह के दोनो मासूम फतेहसिंग और जोरावार को मात्र 7 साल और 5 बर्ष की उम्र में इस्लाम ना मानने पर दीवार में जिन्दा चुनवा दिया था।
———————————————————————————
9- मैं नहीं भूला उस जिहादी बजीर खान को, जिसने बन्दा बैरागी की चमडी को गर्म लोहे की सलाखो से तब तक जलाया जब तक उसकी हड्डियां ना दिखने लगी मगर उस बन्दा वैरागी ने इस्लाम स्वीकार नही किया
———————————————————————————
10- मैं नहीं भूला उस कसाई औरंगजेब को, जिसने पहले संभाजी महाराज की आँखों मे गरम लोहे के सलिए घुसाए, बाद मे उन्हीं गरम सलियों से पुरे शरीर की चमडी उधेडी, फिर भी
संभाजी ने हिंदू धर्म नही छोड़ा था।
———————————————————————————–
11- मैं नहीं भूला उस नापाक अकबर को, जिसने हेमू के 72 वर्षीय स्वाभिमानी बुजुर्ग पिता के इस्लाम कबूल ना करने पर उसके सिर को धड़ से अलग करवा दिया था।
———————————————————————————–
12- मैं नहीं भूला उस वहशी दरिंदे औरंगजेब को, जिसने धर्मवीर भाई मतिदास के इस्लाम कबूल न करने पर बीच चौराहे पर आरे से चिरवा दिया था।
——————————————————————————–

हम हिंदुओ पर हुए अत्याचारो को बताने के लिए शब्द और पन्ने कम हैं….

स्वामी नरसिंहानंद जी की सुरक्षा में विलम्ब क्यों_?

From: Vinod Kumar Gupta < >

 

स्वामी नरसिंहानंद जी की सुरक्षा में विलम्ब क्यों_?

 

आज हिन्दू धर्म क्रान्ति के सजग योद्धा यति नरसिंहानंद सरस्वती जी के जीवन पर भारी संकट मंडरा रहा है। विश्व के समस्त जिहादियों ने स्वामी जी का “सर तन से जुदा” करने का खुलेआम ऐलान कर रखा है।जिहादियों के षडयंत्रों की पूर्ण जानकारी होने के उपरान्त भी प्राप्त समाचारों के अनुसार शासन द्वारा स्वामी जी की सुरक्षा के लिये कोई संतोषजनक व ठोस व्यवस्था अभी तक उपलब्ध नहीं करवाई गई है। ऐसी विकट स्थिति में अगर कोई जिहादी अपने षड्यंत्र में सफल हो जाता है तो उसका सारा दोष शासन-प्रशासन पर जाएगा।

 

राष्ट्रवादियों को यह नहीं भूलना चाहिये कि स्वामी जी का हिन्दुओं को सुरक्षित रखने के लिये जिहादियों के विरुद्ध निरंतर चलाये जाने वाले जन-जागरण अभियानों से तथाकथित हिन्दू हित की रक्षक भारतीय जनता पार्टी को ही लाभ मिलता आ रहा है।

परिणामस्वरुप स्वामी जी के दशकों के अथक संघर्षो का भाजपा के शीर्ष पर पहुँचने में भी विशेष योगदान रहा है। ऐसे में भाजपा के शीर्ष नेतृत्व को भी स्वामी जी के अमुल्य योगदान को भूल जाना बहुत बडी भूल हो सकती है।

 

केंद्र में भाजपानीत सशक्त सरकार के होते हुए भी पिछ्ले कुछ वर्षों से मुख्यत: बंगाल व केरल में संघ व भाजपा के नेताओं व कार्यकर्ताओं का बहता हुआ लहू देशभक्तों को निराश कर रहा है। अभी हाल में बंगाल चुनावों के पश्चात हुए हिन्दुओं के व्यापक उत्पीड़न व हत्याकांड ने तो संघ परिवार सहित लाखों मतदाताओं और समर्थकों को भी हताश करके निरुत्साहित कर दिया है।क्या भाजपा के पदाधिकारियों व केन्द्रिय मंत्रियों को हिन्दुओं की रोती-बिलखती वेदना के स्वर सुनाई नहीं देते?क्या 2014 व 2019 में पूर्ण बहुमत से भाजपा को केंद्र की सत्ता में बैठाने वाले बहुसंख्यक हिन्दुओं का उत्पीड़न होता रहे और राजमद में हमारे नेता केवल वोटों के लाभ-हानि का गणित लगाते रहें?

 

अगर बहुसंख्यक हिन्दुओं की अवहेलना होती रही तो  हिन्दू हित के लिये वोट मांगने वाली भाजपा पुन: सत्ता में कैसे आ पायेगी? भाजपा के नीतिनियंताओं को मुख्य रुप से यह स्मरण रखना चाहिये कि सोनियानीत 2004-14 तक की सरकार में बढते हुए मुस्लिम तुष्टिकरण के कारण दु:साहसी जिहादियों के अत्याचारों से ग्रस्त बहुसंख्यक हिन्दुओं ने 2014 व 2019 में केंद्र में शासन का अवसर प्रदान किया था। लेकिन अगर राष्ट्रवाद व विकास की आड़ में मुसलमानों का सशक्तिकरण करने के लिये भाजपा सरकार सक्रिय बनी रहेगी तो राष्ट्रवादियों का आक्रोश फुट पड़ेगा। सबका साथ, विकास और विश्वास केवल और केवल चुनावी ढकोसला बन चुका है।

 

इसलिये भविष्य में होने वाले चुनावों को ध्यान में रख कर भाजपा व राष्ट्रिय स्वयं सेवक संघ को हिन्दू साधू-संतों व हिन्दू समाज के मतदाताओं पर हो रहे आक्रमणों की अनदेखी नहीं करनी चाहिये। अगर बंगाल के समान भाजपा के समर्थकों पर राष्ट्रव्यापी आक्रमण होने लगेगा तो उसका परिणाम कितना भयंकर हो सकता हैं, सोच कर भी ह्रदय कांप उठता हैं। हमें यह नहीं भूलना चाहिये कि गज़वा-ए-हिन्द के लिये सक्रिय जिहादियों ने बंग्ला देश व म्यांमार के मुस्लिम घुसपैठियों/आतंकवादियों द्वारा निरंतर अपनी शक्ति को बढाया हैं।हमारे सीमित सुरक्षा साधनों के अथक प्रयासों के उपरान्त भी देश की आन्तरिक सुरक्षा में जिहादियों के नित्य होने वाले अत्याचारों से अधिकांश देशवासियों में भय व्याप्त हैं। क्या जमायत-ए-उलेमा हिन्द द्वारा सवा करोड़ की सैन्य प्रशिक्षित मुस्लिम युवाओं के यूथ क्लब का किया जा रहा निर्माण देश के लिये एक बडी चुनौती नहीं बनेगा?

 

 ऐसे में हिन्दुत्व की रक्षार्थ जुटे हुए साधू-सन्त व अन्य हिन्दुत्वनिष्ट कार्यकर्ताओं की सुरक्षा अति आवश्यक हो जाती हैं।इसमें कोई अतिशयोक्ति नहीं कि इसीलिये आज सम्पूर्ण हिन्दू समाज क्रान्तिकारी धर्मयोद्धा स्वामी नरसिंहानंद जी के अमुल्य जीवन के लिये विशेष चिंतित हैं। आज स्वामी नरसिंहानंद जी   हिन्दू धर्म रक्षकों के प्रेरणापुंज बन चुके हैं।

 

अत: भारतीय जनता पार्टी व संघ परिवार के शीर्ष नेतृत्व को शिव शक्ति धाम, डासना (गाजियाबाद) के वरिष्ठ महंत एवं अखिल भारतीय सन्त परिषद के राष्ट्रीय संयोजक यति नरसिंहानंद सरस्वती जी के बहुमूल्य जीवन की रक्षा के लिये हर संभव प्रयास करने होंगे। इसलिये आज सभी हिन्दुत्वनिष्ठ युवा शासन की ओर टकटकी लगाये देख रहा है कि कब भाजपा की केंद्र व राज्य सरकारें स्वामी जी को देश की सर्वोच्च “जेड प्लस” श्रेणी की सुरक्षा उपलब्ध करायेंगी?

विनोद कुमार सर्वोदय

(राष्ट्रवादी चिन्तक व लेखक)

गाज़ियाबाद