How to Hinduize Bhaaratiya Muslims

How to Hinduize Bhaaratiya Muslims

i.e.

How to Make Muslims Pro-Hindu

By Suresh Vyas

Here are some ideas for consideration. Some of the ideas may sound unfair or un-democratic, but understand that Islam has invaded in Bhaarat by force for 1000 years, and the Hindus have suffered immensely from Muslims beyond tolerance. It was Islam that caused the partition of India in 1947. Islam is anti-Hindu and anti-democracy. 1400 years history shows that there cannot be peace where there is Islam. The partition is the proof that Islam is not compatible with the Hindu Dharma, which is universal religion for mankind. It (Dharma) provides ways to advance spiritually; and as one advances spiritually, one lives more and more sin-free. Sin-free living cannot be a problem for anyone.

  1. Make Bhaarat a Hindu State (not secular) where Islam will be illegal.
  2. Action/Task for Hindu Dharma Acharya Sabhaa (HDAS):
    1. Take authentic Koran in MS Word, and delete all those lines that are anti-Hindu, or anti-Human, or anti-national. Ensure there is no like that makes a follower aligned with to any country other than Hindustan.
    2. Delete those lines that tell to do jihad against kafirs, and the lines about darul-al Islam and Darul-al harb.
    3. Delete those lines whose practice is against Hindu dharma or causes hinderance to Hindu dharma practice.
    4. Publish the revise version as Hinduized Koran that the Govt should recommend for Muslims, and all other Korans banned.
  3. Ban Bukhari, and Hadith
  4. Ban foreskin and clitoris cutting.
  5. Ban burkha
  6. Ban namaz on streets, confine Islam practice within homes only.
  7. Ban use of Urdu and Arabic.
  8. Bal possession or printing of Koran in Urdu or Arabic.
  9. Ban subsidies for Hajj.
  10. No separate schools for Muslims.
  11. Declare Bakri Ed will not be a national holiday
  12. No entry or visa for foreign Muslim preachers
  13. Press Muslims in every way (e.g. economic boycott) to either quit Islam or quit Bhaarat.
    1. No voting rights to illegal invaders such as Rohingyas and Bangla Deshi Muslims.
  14. Run monthly Ghar Waapasi public programs all over the nation.
  15. Close Muslim universities and seminaries.
  16. Ban loud speakers in/on mosques.
  17. Take away voting right of all members in any Muslim family that produces more than 1-2 children.
  18. No separate courts for Muslims
  19. Severe punishment for Muslims that go against the law.

 

 

 

 

 

Snakes of India (भारत के सांप)

Source: https://www.youtube.com/watch?v=YHiVQXOe5zU

By raju patel

 

abu azmi (politician)

ahmed patel (politician)

ajam khan (politician)

akhlaak (cow butcher)

amir khan,

amir khan,

arfa khanam (journalist)

assauddin owasi brothers (politician)

atik urr rehamaan (islamic scholar)

dawood ibrahim (DON)

ezaz khan,

faruk abdulah (politician)

gohar khan (film star)

gulam nabi azad (politician)

hamid ansar (politician)

imran masood (politician)

javed akhtar,

mahmood paracha (advocate)

majeed memnon tasleem rehamani (politician)

maqbol fida hussain (artist)

md azahruddin (cricketer/politician)

mehabuba mufti (politician)

mukhtar ansari (politician)

mulana majeed rashadi (islamic scholar)

nasuruddin shah,

omar abdulah (politician)

rana ayub (social worker)

sabana aazmi,

sabnam lone (advocate)

saif ali khan (film star)

salman khan

salman khurshid (politician)

shahrukh khan (film star)

shams tahir khan (journalist)

tabrez ansari (a thief)

testa shitalvada (social worker)

umar khalid (student)

yaseen malik asiya anrabi zakir naik (islamic scholar)

zainab sikandar (social worker)

zenab sikandar

Who Says Muslims Are Fighting For Equality, etc. ?

From:  Karam Ramrakha < >

By Sanjeev Kullarni < >

Who is fighting for humanism, equality, freedom and fraternity?  Definitely not the Kashmiri Muslims.  All these things are guaranteed to them as citizens of India. Ask them a hard question: For what they are fighting that they do not get in India? Their answer will shock you.  They are not interested in equality with non-believers or freedom and fraternity for those who do not consider Mohammad is the only one to be followed.  They (the Muslims) cannot deny equality as exhorted in Koran to non-believers (and also) by the Indian constitution even when they (The Muslims) are in the majority; but they do, and the history is the witness. The Muslims can talk about secularism, human rights, democracy etc. only till they are in minority.

 

They want to create Islamic caliphate where they have the freedom to deny equality to non-believers and implement shariah law.   Ask them:

 

If 180 million Muslims can live in Hindu majority India, why a few million Kashmiri Muslims cannot?

(We, the Bhaaratiya Hindus, must give up any desire to assimilate Muslims with Hindus. We have had plenty of suffering for a longtime while we tried it.  Now we want to purge out Islam from Bhaarat. It was Islam that said in 1947 that they cannot live with Hindus; and that created partition of Bhaarat. In essence we gave them a secure land (Pak territory) where they can fearlessly plan their Islamic ways of destroying Hindus and Hindustan. The fact is that Islam cannot assimilate with any non-believer, and therefore we must purge it out from Bhaarat where it has invaded by force. – Suresh Vyas)

 If Hindus are driven out of their ancestral homes where they have been living for thousands of years, we are supposed to believe that nothing can be sustained by force forever.  We believe that one day the people who are trying to force them (the Muslims) out will succeed.   And therefore, Kashmir’ so called ‘freedom’ struggle will never be successful. India is not an occupying force but it is there for thousands of years. If any invader alien ideology followers try to force their way, they will kiss the dust.

No force in the world can now divide India again to create one more Islamic state.  Make no mistake about it.  These Muslims are foolishly awakening a giant.  I know they (the Muslims) are not destined to mend their ways well in time, and maybe it is a historical inevitability. But I have a premonition that they will face very dire consequences.   Mark my words.

Sanjeev

हिंदुओं के खिलाफ ज़हर फैला रहा है बॉलीवुड. – IIM के प्रोफेसर kaa Report

From: Pramod Agrawal < >

हिंदुओं के खिलाफ ज़हर फैला रहा है बॉलीवुड, IIM के प्रोफेसर धीरज शर्मा की अहमदाबाद से आयी सनसनीखेज रिपोर्ट…

अक्सर कहा जाता है कि बॉलीवुड की फिल्में हिंदू और सिख धर्म के खिलाफ लोगों के दिमाग में धीमा ज़हर भर रही हैं। इस शिकायत की सच्चाई जानने के लिए अहमदाबाद में इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (आईआईएम) के एक प्रोफेसर ने एक अध्ययन किया है,

जिसके नतीजे चौंकाने वाले हैं। आईआईएम के प्रोफेसर धीरज शर्मा ने बीते छह दशक की 50 बड़ी फिल्मों की कहानी को अपने अध्ययन में शामिल किया और पाया कि बॉलीवुड एक सोची-समझी रणनीति के तहत बीते करीब 50 साल से लोगों के दिमाग में यह बात भर रहा है कि हिंदू और सिख दकियानूसी होते हैं।

उनकी धार्मिक परंपराएं बेतुकी होती हैं। मुसलमान हमेशा नेक और उसूलों पर चलने वाले होते हैं। जबकि ईसाई नाम वाली लड़कियां बदचलन होती हैं। हिंदुओं में कथित ऊंची जातियां ही नहीं, पिछड़ी जातियों के लिए भी रवैया नकारात्मक ही है। यह पहली बार है जब बॉलीवुड फिल्मों की कहानियों और उनके असर पर इतने बड़े पैमाने पर अध्ययन किया गया है।

#ब्राह्मण_नेता_भ्रष्ट_वैश्य_बेइमान_कारोबारी!

आईआईएम के इस अध्ययन के अनुसार फिल्मों में 58 फीसदी भ्रष्ट नेताओं को ब्राह्मण दिखाया गया है। 62 फीसदी फिल्मों में बेइमान कारोबारी को वैश्य सरनेम वाला दिखाया गया है। फिल्मों में 74 फीसदी सिख किरदार मज़ाक का पात्र बनाया गया। जब किसी महिला को बदचलन दिखाने की बात आती है तो 78 फीसदी बार उनके नाम ईसाई वाले होते हैं। 84 प्रतिशत फिल्मों में मुस्लिम किरदारों को मजहब में पक्का यकीन रखने वाला, बेहद ईमानदार दिखाया गया है। यहां तक कि अगर कोई मुसलमान खलनायक हो तो वो भी उसूलों का पक्का होता है।

हैरानी इस बात की है कि यह लंबे समय से चल रहा हैऔरअलग-अलग समय की फिल्मों में इस मैसेज को बड़ी सफाई से फिल्मी कहानियों के साथ बुना जाता है। अध्ययन के तहत रैंडम तरीके से 1960 से हर दशक की 50-50 फिल्में चुनी गईं। इनमें ए से लेकर जेड तक हर शब्द की 2 से 3 फिल्में चुनी गईं। ताकि फिल्मों के चुनाव में किसी तरह पूर्वाग्रह न रहे। अध्ययन के नतीजों से साफ झलकता है कि फिल्म इंडस्ट्री किसी एजेंडे पर काम कर रही है।

#बजंरगी_भाईजान देखने के बाद अध्ययन

प्रोफेसर धीरज शर्मा कहते हैं कि “मैं बहुत कम फिल्में देखता हूं। लेकिन कुछ दिन पहले किसी के साथ मैंने बजरंगी भाईजान फिल्म देखी। मैं हैरान था कि भारत में बनी इस फिल्म में ज्यादातर भारतीयों को तंग सोच वाला, दकियानूसी और भेदभाव करने वाला दिखाया गया है। जबकि आम तौर पर ज्यादातर पाकिस्तानी खुले दिमाग के और इंसान के बीच में फर्क नहीं करने वाले दिखाए गए हैं।” यही देखकर उन्होंने एक तथ्यात्मक अध्ययन करने का फैसला किया।

वो यह जानना चाहते थे कि फिल्मों के जरिए लोगों के दिमाग में गलत सोच भरने के जो आरोप लगते हैं क्या वाकई वो सही हैं? यह अध्ययन काफी महत्वपूर्ण है क्योंकि फिल्में नौजवान लोगों के दिमाग, व्यवहार, भावनाओं और उनके सोचने के तरीके को प्रभावित करती हैं। यह देखा गया है कि फिल्मों की कहानी और चरित्रों के बर्ताव की लोग निजी जीवन में नकल करने की कोशिश करते हैं।

#पाकिस्तान_और_इस्लाम का महिमामंडन

प्रोफेसर धीरज और उनकी टीम ने 20 ऐसी फिल्मों को भी अध्ययन में शामिल किया जो पिछले कुछ साल में पाकिस्तान में भी रिलीज की गईं। उनके अनुसार ‘इनमें से 18 में पाकिस्तानी लोगों को खुले दिल और दिमाग वाला, बहुत सलीके से बात करने वाला और हिम्मतवाला दिखाया गया है। सिर्फ पाकिस्तान की सरकार को इसमें कट्टरपंथी और तंग नजरिए वाला दिखाया जाता है।

ऐसे में सवाल आता है कि हर फिल्म भारतीय लोगों को पाकिस्तानियों के मुकाबले कम ओपन-माइंडेड और कट्टरपंथी सोच वाला क्यों दिखा रही है? इतना ही नहीं इन फिल्मों में भारत की सरकार को भी बुरा दिखाया जाता है।

पाकिस्तान में रिलीज़ हुई ज्यादातर फिल्मों में भारतीय अधिकारी अड़ंगेबाजी करने वाले और जनता की भावनाओं को नहीं समझने वाले दिखाए जाते हैं।’ फिल्मों के जरिए इमेज बनाने-बिगाड़ने का ये खेल 1970 के दशक के बाद से तेजी से बढ़ा है। जबकि पिछले एक दशक में यह काम सबसे ज्यादा किया गया है। 1970 के दशक के बाद ही फिल्मों में सलीम-जावेद जैसे लेखकों का असर बढ़ा, जबकि मौजूदा दशक में सलमान, आमिर और शाहरुख जैसे खान हीरो सक्रिय रूप से अपनी फिल्मों में पाकिस्तान और इस्लाम के लिए सहानुभूति पैदा करने वाली बातें डलवा रहे हैं।

#बच्चों_के_दिमाग पर बहुत बुरा असर
अध्ययन के तहत फिल्मों के असर को जानने के लिए इन्हें 150 स्कूली बच्चों के एक सैंपल को दिखाया गया। प्रोफेसर धीरज शर्मा के अनुसार ’94 प्रतिशत बच्चों ने इन फिल्मों को सच्ची घटना के तौर पर स्वीकार किया।’ यह माना जा सकता है कि फिल्म वाले पाकिस्तान, अरब देशों, यूरोप और अमेरिका में फैले भारतीय और पाकिस्तानी समुदाय को खुश करने की नीयत से ऐसी फिल्में बना रहे हों। लेकिन यह कहां तक उचित है कि इसके लिए हिंदुओं, सिखों और ईसाइयों को गलत रौशनी में दिखाया जाए?

वैसे भी इस्लाम को हिंदी फिल्मों में जिस सकारात्मक रूप से दिखाया जाता है, वास्तविक दुनिया में उनकी इमेज इससे बिल्कुल अलग है। आतंकवाद की ज्यादातर घटनाओं में मुसलमान शामिल होते हैं, लेकिन फिल्मों में ज्यादातर आतंकवादी के तौर पर हिंदुओं को दिखाया जाता है। जैसे कि शाहरुख खान की ‘मैं हूं ना’ में सुनील शेट्टी एक आतंकी संगठन का मुखिया बना है जो नाम से हिंदू है।

#सलीम_जावेद” सबसे बड़े जिहादी?

सलीम-जावेद की लिखी फिल्मों में हिंदू धर्म को अपमानित करने की कोशिश सबसे ज्यादा दिखाई देती है। इसमें अक्सर अपराधियों का महिमामंडन किया जाता है। पंडित को धूर्त, ठाकुर को जालिम, बनिए को सूदखोर, सरदार को मूर्ख कॉमेडियन आदि ही दिखाया जाता है। ज्यादातर हिंदू किरदारों की जातीय पहचान पर अच्छा खासा जोर दिया जाता था। इनमें अक्सर बहुत चालाकी से हिंदू परंपराओं को दकियानूसी बताया जाता था। इस जोड़ी की लिखी तकरीबन हर फिल्म में एक मुसलमान किरदार जरूर होता था जो बेहद नेकदिल इंसान और अल्ला का बंदा होता था। इसी तरह ईसाई धर्म के लोग भी ज्यादातर अच्छे लोग होते थे।

सलीम-जावेद की फिल्मों में मंदिर और भगवान का मज़ाक आम बात थी। मंदिर का पुजारी ज्यादातर लालची, ठग और बलात्कारी किस्म का ही होता था। फिल्म “शोले” में धर्मेंद्र भगवान शिव की आड़ लेकर हेमा मालिनी को अपने प्रेमजाल में फँसाना चाहता है, जो यह साबित करता है कि मंदिर में लोग लड़कियाँ छेड़ने जाते हैं। इसी फिल्म में एके हंगल इतना पक्का नमाजी है कि बेटे की लाश को छोड़कर, यह कहकर नमाज पढ़ने चल देता है कि उसने और बेटे क्यों नहीं दिए कुर्बान होने के लिए।

“दीवार” फिल्म का अमिताभ बच्चन नास्तिक है और वो भगवान का प्रसाद तक नहीं खाना चाहता है, लेकिन 786 लिखे हुए बिल्ले को हमेशा अपनी जेब में रखता है और वो बिल्ला ही बार-बार अमिताभ बच्चन की जान बचाता है। फिल्म “जंजीर” में भी अमिताभ बच्चन नास्तिक हैं और जया, भगवान से नाराज होकर गाना गाती है, लेकिन शेरखान एक सच्चा मुसलमान है। फिल्म ‘शान” में अमिताभ बच्चन और शशि कपूर साधु के वेश में जनता को ठगते हैं, लेकिन इसी फिल्म में “अब्दुल” ऐसा सच्चा इंसान है जो सच्चाई के लिए जान दे देता है। फिल्म “क्रान्ति” में माता का भजन करने वाला राजा (प्रदीप कुमार) गद्दार है और करीम खान (शत्रुघ्न सिन्हा) एक महान देशभक्त, जो देश के लिए अपनी जान दे देता है।

“अमर-अकबर-एंथोनी” में तीनों बच्चों का बाप किशनलाल एक खूनी स्मगलर है लेकिन उनके बच्चों (अकबर और एंथोनी) को पालने वाले मुस्लिम और ईसाई बेहद नेकदिल इंसान है। कुल मिलाकर आपको सलीम-जावेद की फिल्मों में हिंदू नास्तिक मिलेगा या फिर धर्म का उपहास करने वाला। जबकि मुसलमान शेर खान पठान, डीएसपी डिसूजा, अब्दुल, पादरी, माइकल, डेविड जैसे आदर्श चरित्र देखने को मिलेंगे।

हो सकता है आपने पहले कभी इस पर ध्यान न दिया हो, लेकिन अबकी बार ज़रा गौर से देखिएगा केवल “सलीम-जावेद” की ही नहीं, बल्कि “कादर खान, कैफ़ी आजमी, महेश भट्ट” जैसे ढेरों कलाकारों की कहानियों का भी यही हाल है। “सलीम-जावेद” के दौर में फिल्म इंडस्ट्री पर दाऊद इब्राहिम का नियंत्रण काफी मजबूत हो चुका था। हम आपको बता दें कि सलीम खान सलमान खान के पिता हैं, जबकि जावेद अख्तर आजकल सबसे बड़े सेकुलर का चोला ओढ़े हुए हैं।

#अब_तीनों_खान ने संभाली जिम्मेदारी?

मौजूदा समय में तीनों खान एक्टर फिल्मों में हिंदू किरदार करते हुए हिंदुओं के खिलाफ माहौल बनाने में जुटे हैं। इनमें सबसे खतरनाक कोई है तो वो है आमिर खान। आमिर खान की पिछली कई फिल्मों को गौर से देखें तो आप पाएंगे कि सभी का मैसेज यही है कि भगवान की पूजा करने वाले धार्मिक लोग हास्यास्पद होते हैं। इन सभी में एक मुस्लिम कैरेक्टर जरूर होता है जो बहुत ही भला इंसान होता है। “पीके” में उन्होंने सभी हिंदू देवी-देवताओं को रॉन्ग नंबर बता दिया। लेकिन अल्लाह पर वो चुप रहे।

पहलवानों की जिंदगी पर बनी “दंगल” में हनुमान की तस्वीर तक नहीं मिलेगी। जबकि इसमें पहलवानों को मांस खाने और एक कसाई का दिया प्रसाद खाने पर ही जीतते दिखाया गया है। सलमान खान भी इसी मिशन पर हैं, उन्होंने “बजरंगी भाईजान” में हिंदुओं को दकियानूसी और पाकिस्तानियों को बड़े दिलवाला बताया। शाहरुख खान तो “माई नेम इज़ खान” जैसी फिल्मों से काफी समय से इस्लामी जिहाद का काम जारी रखे हुए हैं।

#संस्कृति_को_नुकसान की कोशिश

हॉलीवुड की फिल्में पूरी दुनिया में अमेरिकी संस्कृति, हावभाव और लाइफस्टाइल को पहुंचा रही हैं। जबकि बॉलीवुड की फिल्में भारतीय संस्कृति से कोसों दूर हैं। इनमें संस्कृति की कुछ बातों जैसे कि त्यौहार वगैरह को लिया तो जाता है लेकिन उनका इस्तेमाल भी गानों में किया जाता है। लगान जैसी कुछ फिल्मों में भजन वगैरह भी डाले जाते हैं लेकिन उनके साथ ही धर्म का एक ऐसा मैसेज भी जोड़ दिया जाता है कि कुल मिलाकर नतीजा नकारात्मक ही होता है।

फिल्मों के बहाने हिंदू धर्म और भारतीय परंपराओं को अपमानित करने का खेल बहुत पुराना है। सिनेमा के शुरुआती दौर में ये होता था लेकिन खुलकर नहीं। लेकिन 70 के दशक के दौरान ज्यादातर फिल्में यही बताने के लिए बनाई जाने लगीं कि मुसलमान रहमदिल और नेक इंसान होते हैं, जबकि हिंदुओं के पाखंडी और कट्टरपंथी होने की गुंजाइश अधिक होती है।

आईआईएम के प्रोफेसर धीरज शर्मा की इस स्टडी में होने वाले खुलासों ने सारे देश को झकझोर कर रख दिया है और साथ ही बीजेपी के कद्दावर नेता डॉक्टर सुब्रमणियम स्वामी के उस दावे को भी सही साबित कर दिया, जिसमे उन्होंने कहा है कि बॉलीवुड में दाऊद का कालाधन लगता है और दाऊद के इशारों पर ही बॉलीवुड का इस्लामीकरण किया जा रहा है।

स्वामी समेत कई हिन्दू संगठन भी इस बात का दावा कर चुके हैं कि एक साजिश के तहत मोटी कमाई का जरिया बन चुके बॉलीवुड में “हिन्दू” कलाकारों को “किनारे” किया जा रहा है और मुस्लिम हीरो, गायक आदि को ज्यादा से ज्यादा काम दिया जा रहा है.पाकिस्तानी कलाकारों को काम देने के लिए भी दाऊद गैंग बॉलीवुड पर दबाव बनाता है।

सोचों और विचार करो।

 

Intellectual vs Wise

From: Gurvinder Singh < >

Differences between Intellectual and Wise. We put too much emphasis on modern education. It’s actually mass education, a programming of people to think and feel identically. In this case, greatly enhance able natural human intelligence is suppressed. This human intelligence is replaced by vast amounts of data and information and a bias, to produce an intellectual. An intellectual person cannot cope, manage or adapt as effectively to changing scenarios and needs than an intelligent person. To make things worse, the status granted by popular society to intellect over intelligence breeds a not so pleasant or desirable an individual or society. Wisdom is the application of individual and collective intelligence to enhance the quality of life at individual relationship and create a better humanity and world.

To find out if one is an intellectual individual or a wise person one can go through these 14 points.

  1. Intellectualism leads to arguments. Wisdom leads to settlements.
  2. Intellectualism is power of will.Wisdom is power over will.
  3. Intellectualism is heat, it burns. Wisdom is warmth, it comforts.
  4. Intellectualism is pursuit of knowledge; it tires the seeker. Wisdom is pursuit of truth; it inspires the seeker.
  5. Intellectualism is holding on. Wisdom is letting go.
  6. Intellectualism leads you. Wisdom guides you.
  7. An Intellectual person thinks he or she knows everything. A wise person knows that there is so much more to learn.
  8. An Intellectual person always tries to prove his or her point. A wise person knows there really is no point.
  9. An Intellectual person freely gives unsolicited advice. A wise person keeps his or her counsel until all options are considered.
  10. An Intellectual person understands what is being said. A wise person understands what is left unsaid.
  11. An Intellectual person speaks when he or she has to say something. A wise person speaks when he or she has something to say.
  12. An Intellectual person sees everything as relative. A wise person sees everything as related.
  13. An Intellectual person tries to control the flow. A wise person navigates through the flow.
  14. An Intellectual person preaches. A wise person reaches.
  15. Intellect, like thunder and lightning, appear powerful and impressive; but its wisdom like the rain that actually grows the food and the flowers.

“Kashmir is original Hindu roots (Land)…..”

From: Rajput < >

Dear Kerala Hindus,
Congratulations on your courage to state in public, “Kashmir is original Hindu roots…..” although this is serious violation of Pandit Nehru’s pseudo-secular Constitution and Will (to say so). 
 
To NEHRU & his bosom friend Mohammed Ali Jinnah, the Islamic root, too, joined the Hindu roots when “MOO-E-MOBARAK” (Hazrat Mohammed’s hair) descended in Srinagar many centuries ago! 
 
There is a shrine in Srinagar to which Muslim devotees go for “darshan”. Not one inquires, “How did that happen?” Or, “Why was it not a toe nail instead of a hair?” and, “What about a DNA test on this hair?”
 
Such questioning is not allowed in Islam. Pakistan has enacted a new Law called “Khatm-e-Nabawwat”. This  Law declares that Mohammed was the LAST prophet on earth. That implies that God Almighty has “His wings clipped and POWER curtailed” and, accordingly, will NEVER send another prophet down to earth! Anyone questioning this Law will be KILLED. We must feel sympathy with the PUNJABI MUSALMANS who must put the Arab above the native “son of sacred soil” who was born not far from Lahore!
 
You mention Kashmir with original Hindu roots. Then pray, tell us, “What kind of roots do Lahore, Karachi and Dhaka have if not “Hindu”?”
 
So please look at the Subject line and add after “Kashmir”, Kabul, Gilgit, Peshawar, Lahore, Quetta, Karachi and Dhaka”. There, too, the ORIGINAL roots were Hindu or Buddhist and Islam came many centuries later. The world also knows HOW Islam arrived in Sindh in 712 AD. (NB: Islam also arrived at Jabal El Tarik (Gibraltar) in 711 AD but do we find any trace of Islam there now? Only in confused, demoralized, decomposed & divided Hindusthan it is rampant!)
 
So, let us RECLAIM our Hindu roots with pride and courage, not only in Kashmir but also in the whole of Pakistan and even beyond. At least there will be NO forcible conversions, no amputation of limbs for minor crime, no stoning to death of women, no degradation of women by “FOUR” wives, no divorce by saying “talaq” three times, no Jehad and no all-male assemblies at namaz in mosques! Would that be good luck, or bad luck, for all the Pakistanis who have HINDU/BUDDHIST roots?
 
Finally, what does one do after the robbers have occupied one’s house by force? Keep reminding them, “You are impostor. You are aggressor. You are illegal & undemocratic. Hence you should vacate your invaded home immediately” till eternity, or JUST KEEP QUIET LIKE Government of India’s SILENCE over PARTITION and the HINDU HOLOCAUST of 1947?
 
No Sir. That is a foolish response.  It is time to invoke Guru Gobind Singhji who declared,“WHEN ALL MEANS FAIL, IT IS RIGHTEOUS TO DRAW THE SWORD!” (Original Persian version: “Choon kaar az hameh hileh darguzasht, halal ast burden be-shamsheer dast!”). 
Sri Krishna had similar recommendstion for Arjun at Kurukshetra ! “युद्धाय कृत निश्चय” He said.
There is no other spot on earth than AYODHYA with genuine and proven HINDU roots! How far has our Hindu nation progressed in its recovery? The rot started in 1526. Now it is 2019. Some simple Hindus call it “progress!” To such slow thinkers Lahore will be back in Bharat after two millennia. No, that cannot be acceptable. It is time to remove the pessimists that are among us.
 
Rajput
2 Aug 19

Five Answers for the Question – Who Is a Hindu

From: Shriharsha Sharma < >

Who is a Hindu?

                                      I  am a Hindu.

                                  Dr. Shriharsha Sharma

 1.The word Hindu is most ancient and it is mentioned in Rig ved—8:2:41

In Rigved there is description of a king named’ VivHindu’ who donated 46000 cows. He was a very powerful king and involved in charity.

2. Rigved describes about a Rishi named Sandhav who was later  popularly known as  Haindav or Hindav.

3. Rigved  mentions Hindu word in Brahspati Agyam.

Himalayam samarabhya yavat Indu sarovaram,

Tam devnirmitam desham Hindusthanam praca kshate.

Himalaya to Indusarovar, the nation  established by Devas is called Hindusthan.

4. Meru tantra or Shaiv tantra has used word Hindu.

 Hinam ca dushya tyeva hindu ri tyu ccate priye.

 He  who comes out of ignorance and narrow thinking is a Hindu.

5. The above mantra has been repeated in ‘Kalpdrum’

Hinam dusayati  iti Hindu means he who is not narrow minded is a Hindu.

6. In   Paarijaat Haran the word Hindu has been described

Hinasti tapasa paapaam  dahikaam dushtamaansaan,

Hetibhih  satruvargam ca sa hindubhidhiyate.

7. Hindu    in Madhav Digviya

Onkaar mantra mooladhaya  punarjanm dridhaashayah,

Gobhakto bharat gurur hindu hinsan dushakah .

 He who believes that ONKAR sound is Parmatma itself and who believes in theory of karma or cause and effect, he who cares and looks after cows and he who keeps away from evilness is a Hindu.

The word Hindu is as ancient as Vedas and we have inherited it from the oldest scriptures  Vedas. The invaders never gave this to people of Bharat rather Vedas have addressed the people of Bharat as Hindu.