From: am < >

Sent: Thursday, March 15, 2018 8:50 AM

To: Kumar Arun

Cc: American Hindu Association (USA)

Subject: Re: Fw: Replace Indian Constitution w/ Hindusthan Samvidhan

 

You are right sir.

 

Dr. Ambedkar must be right.

 

There appears to be some inherent defect that is why he must have stated this. For example:

 

The Constitution gave right to J & K Muslims separate flag, Own prime minister, own constitution etc. etc. but denied the same right to Kashmiri Hindus who were killed or dragged out from their ancestral lands.

 

Same thing had earlier happened with Bengali Hindus Bangladesh Muslims had their own flag, own constitution, own nation but the Hindus belonging to that region were even denied the right of life & properties as well as all connections with their own roots.

 

As far as Punjabi Hindus were concerned the leadership had gone totally berserk.

 

Muslims killed millions of Punjabi Hindus & Sikhs. Looted their properties.

Other millions of Hindus who survived/uprooted were sent to different regions of India so that they don’t demand special status like Kashmiri Muslims of India or Pakistanis or Bangladeshis.

 

The writers of constitutions therefore were not judicious to Punjabi Hindus.

 

I agree with the statement of Dr. Ambedkar.

 

Regards

Alok Mohan

==

 

On Thu, 15 Mar 2018 05:51 Kumar Arun, < > wrote:

 

“अम्बेडकर ने २ सितम्बर, १९५३ को राज्य सभा में कहा कि इस संविधान को आग लगाने की जिस दिन जरूरत पड़ेगी, मैं पहला व्यक्ति रहूंगा जो इसे आग लगाउॅंगा। भारतीय संविधान किसी का भला नहीं करता| अम्बेडकर का उपरोक्त वक्तव्य राज्य सभा की कार्यवाही का हिस्सा है; जिसे कोई भी पढ़ सकता है| एक बात और समझने की है कि भीमराव अम्बेडकर संविधान सभा की ड्राफ्टिंग कमैटी के चेयरमैन थे| जब संकलनकर्ता ही भारतीय संविधान को जलाना चाहते थे, तो आप भारतीय संविधान पर क्यों विश्वास करते हैं?

 

क्यों बना भारतीय संविधान?

–Ayodhya P Tripathi

==

 

I will try to explain the feelings of Shri Ayodhya Tripathi (above in Hindi) with best of my understanding. It was speech of Shri Ambedkar, chairperson of the free India constitution drafting committee that tells us that he was willing to burn the constitution because it was not at all suitable for the country. By the way, Dr. Ambedkar speech in verbatim can be read & heard on the internet.

 

So, the question each & every patriot should be asking why Nehruvian never tried to change it for 65 years? Our first government installed up for transforming India into Hindusthan, has been struggling for it. They have not even started talking in public needless to mention any action. Is this not our solemn duty to unite and demand from our current government a necessary change in the constitution?

 

Respectfully,

 

Dr. Kumar Arun

March 14, 2018

==

 

From: AyodhyaPrasad Tripathi < >

Sent: Wednesday, March 14, 2018 9:57 PM

 

अम्बेडकर ने २ सितम्बर, १९५३ को राज्य सभा में कहा कि इस संविधान को आग लगाने की जिस दिन जरूरत पड़ेगी, मैं पहला व्यक्ति रहूंगा जो इसे आग लगाउॅंगा। भारतीय संविधान किसी का भला नहीं करता| अम्बेडकर का उपरोक्त वक्तव्य राज्य सभा की कार्यवाही का हिस्सा है; जिसे कोई भी पढ़ सकता है| एक बात और समझने की है कि भीमराव अम्बेडकर संविधान सभा की ड्राफ्टिंग कमैटी के चेयरमैन थे| जब संकलनकर्ता ही भारतीय संविधान को जलाना चाहते थे, तो आप भारतीय संविधान पर क्यों विश्वास करते हैं?

 

क्यों बना भारतीय संविधान?

उत्तर है, मानव मात्र को दास बनाने और वैदिक सनातन संस्कृति को नष्ट करने के लिए| एलिजाबेथ को भी ईसा का आदेश है, “परन्तु मेरे उन शत्रुओं को जो नहीं चाहते कि मै उन पर राज्य करूं, यहाँ लाओ और मेरे सामने घात करो|” (बाइबल, लूका १९:२७).

 

अर्मगेद्दन के पश्चात ईसा जेरूसलम को अपनी अंतर्राष्ट्रीय राजधानी बनाएगा| बाइबल के अनुसार ईसा यहूदियों के मंदिर में ईश्वर बन कर बैठेगा और मात्र अपनी पूजा कराएगा| हिरण्यकश्यप की दैत्य संस्कृति न बची और केवल उसी की पूजा तो हो न सकी, अब ईसा की बारी है| विशेष विवरण नीचे की लिंक पर पढ़ें,

http://en.wikipedia.org/wiki/Armageddon

 

Armageddon – Wikipedia

en.wikipedia.org

 

अल्लाह व उसके इस्लाम ने मानव जाति को दो हिस्सों मोमिन और काफ़िर में बाँट रखा है| धरती को भी दो हिस्सों दार उल हर्ब और दार उल इस्लाम में बाँट रखा है| (कुरान ८:३९) काफ़िर को कत्ल करना व दार उल हर्ब धरती को दार उल इस्लाम में बदलना मुसलमानों का मजहबी व संवैधानिक अधिकार है| (एआईआर, कलकत्ता, १९८५, प१०४). चुनाव द्वारा इनमें कोई परिवर्तन सम्भव नहीं|

अप्रति

 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s