#कुरान कहती है किसी #हिन्दू को #जीवित रहने का अधिकार नही है – नरसिंह वाणी

#कुरान कहती है किसी #हिन्दू को #जीवित रहने का अधिकार नही है – नरसिंह वाणी ( Narsingh Vani ) #किसी_हिन्दू_को_जीवित_रहने_का_अधिकार_नही_है #NarsinghVani नरसिंह वाणी यह चैनल गुरुदेव यति नरसिंहानन्द सरस्वती जी के मार्गदर्शन में हिन्दुओ पर हुए अत्याचार / बलात्कार व उनके छुपाए गये इतिहास पर आधारित है जिसका सम्बंध तथाकथित कौमीकट्टरवाद इस्लामिकजिहाद से है । ( नोट – द्वारा अनुच्छेद 19 ” राष्‍ट्र की सार्वभौमिक मानवाधिकारों के घोषणा पत्र में मानवाधिकारों को परिभाषित किया गया है । इसके अनुच्‍छेद 19 में कहा गया है कि किसी भी व्‍यक्ति के पास अभिव्‍यक्ति की स्‍वतंत्रता का अधिकार होगा जिसके तहत वह किसी भी तरह के विचारों और सूचनाओं के आदान-प्रदान को स्‍वतंत्र होगा ) कृपया ध्यान दे – भारतीय संविधान के अनुच्छेद १९(१) के तहत यह चैनल हिन्दुओ की अभिव्यक्ति की आजादी के माँग करता है । साथ ही उन्हें उनके वास्तविक इतिहास / उनके द्वारा निर्माण किये गए भवन, किले, स्मारको व अन्य स्थलो व उनपर किये गए अत्याचारो को समाज के सामने लाने की पहल करता है जिससे हिन्दू समाज वर्तमान समय मे अपने द्वारा की गयी गलतियों से यह सिख ले सके व समझ सके कि क्यों उनकी मासूम बेटियो व उनकी औरतों का बलात्कार करके विधर्मीयो द्वारा मंडियों में बेचा गया व उनको 1300 तेरह सौ वर्षों तक गुलाम बने रहना पड़ा साथ ही उसे यह पता हो कि उसका वास्तविक इतिहास क्या है । धन्यवाद … Team – Narsingh Vani

शुद्रों को मन्दिर प्रवेश निषेध क्यु है ओर था ? जानो।

Ye विडियो का शिर्षक है “Ban on Dalits in Temple: This Was the Actual Reason!”

किन्तु uusme reason नहि बताया है। Additionally, the word dalit (meaning oppressed) is a word coined by anti-Hindus for political reason. If a person or the shudra varna was not allowed to enter any local temple, then the reason was he/she was a sanitation worker (bhangi/chamaar, etc), and being poor, was dirty and stinky.
==
Per Srimad Bhagavtaam Dharma has four pillars: तप, सत्य, दया, and पवित्रता (cleanliness/purity).
When a shudra (or any person) is not clean, he/she is forbidden to enter a clean temple.
==
Now it is time that major temples build shower rooms where bhaktas can take a good bath, get some clean cloth free, and then enter temple for darshan or pujaa/haven etc.
jaya sri krishna!