भविष्य पुराण मे ईस्लाम के बारेमे भविष्यवाणी

Source: youtube.com/watch?v=ftGb8_-PqXk

By Amit Singh Tomar

लिंड्गच्छेदी शिखाहीन: श्मश्रुधारी सदूषक:।

उच्चालापी सर्वभक्षी भविष्यति जनोमम।।25।।

विना कौलं च पश्वस्तेषां भक्ष्या मतामम।

मुसलेनैव संस्कार: कुशैरिव भविष्यति ।।26।।

तस्मान्मुसलवन्तो हि जातयो धर्मदूषका:।

इति पैशाचधर्मश्च भविष्यति मया कृत:।। 27।। : (भविष्य पुराण पर्व 3, खंड 3, अध्याय 1, श्लोक 25, 26, 27)

व्याख्‍या : रेगिस्तान की धरती पर एक ‘पिशाच’ जन्म लेगा जिसका नाम महामद होगा, वो एक ऐसे धर्म की नींव रखेगा जिसके कारण मानव जाति त्राहिमाम् कर उठेगी। वो असुर कुल सभी मानवों को समाप्त करने की चेष्टा करेगा। उस धर्म के लोग अपने लिंग के अग्रभाग को जन्म लेते ही काटेंगे, उनकी शिखा (चोटी) नहीं होगी, वो दाढ़ी रखेंगे, पर मूंछ नहीं रखेंगे। वो बहुत शोर करेंगे और मानव जाति का नाश करने की चेष्टा करेंगे। राक्षस जाति को बढ़ावा देंगे एवं वे अपने को ‘मुसलमान’ कहेंगे और ये असुर धर्म कालांतर में स्वत: समाप्त हो जाएगा।

हिन्दू तो भारत मे से इस्लाम को निकालही देंगे।
जय श्री कृष्ण