From: Vishwas Pitke < >

मुहम्मद_ने_कुरान_कब_और_क्यों_बनाई_थी  ?

 

मुस्लिम  विद्वानों   और इतिहासकारों   ने यह दावा  कर रखा  है कि कुरान  का पहला हिस्सा जिब्राईल  नामका फरिश्ता आसमान से     रमजान महीने   की तारीख  27  को सन 610 में   लेकर  आया  था  ,उस समय  रात  थी जिसे  आज मुस्लिम  लैलतुल  ,कद्र कहते हैं ,उस  समय मुहम्मद  की  आयु  40 साल  थी ,

 

लेकिन  यह  बात  सरासर  बेबुनियाद  और झूठ   है , क्योंकि   मुस्लिम  विद्वान् कुरान   के आवरण   की जो तारीख   सन  610 बताते हैं  ,उस से काफी पहले   सन 586 ही   मुहम्मद के ताऊ  जुबैर इब्न  अब्दुल मत्तलिब   ने  एक  कविता  मक्का के लोगों  को सुनाई  थी  ,जो कुरान को अल्लाह की किताब  होने की पोल  खोलने   वाली है ,  यह   बात    तो  हम अपनी तरफ  से  कह  रहे हैं  ,  और न  किसी हिन्दू   संगठन  की  तरफ   से  कह  रहे  हैं लोगों  को यह  बात  जानकर   सहसा विश्वास  नहीं  होगा  की  ,  यह  बात   खुद मुहम्मद   के ताऊ ”  अल जुबैर –    ” ने  उस  समय   कह  दी थी  ,  जब   मुहम्मद  ने कुरान   बनाना   चालु  कर  दिया   था ,, और अपनी   उलटी  सुल्टी बेतुकी   बातों   को अल्लाह   का कलाम बता  कर   मक्का  के लोगों   को जिहादी  बना  रहे  थे ,

 

इस संवेदनशील  विषय   की  सत्यता  को  समझाने  के लिए  आपको    यह  बताना  जरुरी     था कि हमें  यह  जानकारी कहाँ  से  और  कैसे  मिली  ?

 

1- जानकारी   का सुराग  कैसे मिला  ?

कुछ   दिन  पहले  मुझे     एक उर्दू किताब     मिली  जो  निजामी प्रेस  लखनऊ  से छपी  थी  इसका नाम   “ग़दीर  से करबला  –غدیر سے کربلا تک

”   था  ,  इसके लेखक  का  नाम   हसन  नवाब  रिजवी   है  ,  इस किताब  के पेज नंबर 49 पर   मुहम्मद के  ताऊ  जुबैर अब्दुल मत्तलिब  का  एक  अरबी    शेर     दिया   गया   है   ,

لعبت هاشم بالملک فلا

خبر جاء و لا وحی نزل‏

(लबअत हाशिम बिलमुल्क  फला ,खबर जाअ व्  ला  वही  नजल )

अर्थात –  हाशिम   की  औलाद(MUhammad)  ने दुनिया  के साथ  खेल  किया  , नतो आसमान  से कोई खबर  आयी  और   कोई वही  ( revelation )   ,यानी कुरान   आयी.

,हमने इस पूरी कविता के बारे में   दो  दिन  तक   अंगरेजी  और उर्दू  में  सर्च  किया लेकिन   कुछ  पता नहीं   चला   ,    तीसरे दिन  जब  हमने  फारसी में  सर्च    किया  तो  ईरानी  साईट में   अरबी की   वह पूरी  कविता मिल  गयी   ,  साथ में उसका फारसी अनुवाद  भी मिल  गया  , यह  कविता मुहम्मद  सबसे बड़े  चाचा   यानि  ताऊ जुबैर  बिन   अब्दुल  मुत्तालिब   जिसे अव्वाम  भी कहा  जाता   है  ,  उस  समय   लिखी  थी  जब   मुहम्मद   लोगों   से  यह    कहा  करता  था   कि  अल्लाह   के  फ़रिश्ते   मेरे पास  खबर     लाया    करते   हैं  ,  और  मैं  जो  भी  कहता  हूँ   वह  अल्लाह  का  कलाम   है  ,

 

2-मुहम्मद  का  संयुक्त  परिवार 

लेकिन   मुहम्मद   के   ताऊ  ,  चचेरे  भाई   सभी  मुहम्मद  को पाखंडी  और  सत्तालोभी      मानते  थे  ,  दादा  (grand father ) का नाम ” अब्दुल मुत्तलिब    बिन   हिशाम   –  شيبة ابن هاشم عبد المطّلب ” था। इसकी   छह   पत्नियां   थी  ,जिन   से  अब्दुल मुत्तलिब     के    10 संतानें  हुई  ,(  कुछ  लोग  12 संतानें   भी  कहते   हैं   ,)इनका  विवरण   यह    है

 

1-अल जुबैर ”  الزبير بن عبد المطلب “यह  परिवार  का सबसे  बड़ा बेटा  था  इसलिए  मुत्तलिब   ने इसे  घर  का मुखिया    बना दिया   ,  यह  अपने  ऊँटों   से  व्यापारियों  का  सामान लाने   और  भेजने  का काम   करता   था  ,  इसके  अतिरक्त   अरबी में कविता  भी  करता   था  ,  लोग इसे अबू  ताहिर  भी  कहते   थे  , इसी  नाम  से  यह  शायरी भी  करता  था ,और  जब मुहम्मद  के पिता गुजर  गए तो  सबसे  पहले इसी ने  मुहम्मद को  पाला  था  ,  और जब  मुहम्मद      14 साल  का  हो  गया तो  सन 584 में यही  मुहम्मद   को  सीरिया   घुमाने ले  गया   ,  वहां   राजा   की  शान शौकत  देख  कर  मुहम्मद  के  दिल  में  दुनियां  पर  राज करने  इच्छा   पैदा हो  गयी   ,  चूँकि    अपना  राज  कायम  करने  के लिए   सेना  जरुरी    होती   है   ,  और  सैनिकों  को  वेतन देने  की मुहम्मद  की  औकात  नहीं   थी  ,  इसके लिए मुहम्मद  ने जिहाद  का तरीका  खोज  निकाला 

 

2-अबू  तालिब  –बचपन   में इसका नाम     “अब्द मनाफ़ –عبد مناف ”  था  , इसका बेटा  अली  था  ,( मुहम्मद ने  इसी से अपनी पुती  फातिमा  से  शादी  कर    दी  थी  )यद्यपि   अबू  तालिब   ने मुहम्मद को  पाला  ,  फिर भी  अबुतालिब   कभी मुस्लमान   नहीं   बना  , जुबैर की तरह   अबूतालिब   भी  इस्लाम  को  पाखण्ड और  कुरान  को मुहम्मद  की  रचना     मानता   था

 

3-अब्द इलाह   –  यह  मुहम्मद   के पिता  थे ,इसकी पत्नी  का नाम   आमिना  थाजब  अब्दुल्लाह  और आमिना  की  शादी  हुई   तो  अब्दुल मुत्तलिब  ने  एकहि  दिन   एकसाथ   एक  लाइन में सौ  ऊँटों  को  क़ुरबानी  की   थी  ,  उस  से कहा  गया था कि इस से अल्लाह      आमिना   से  अच्छे गुणों    वाला बच्चा   देगा ,  और  बच्चे के बाप को लम्बी आयु   देगा  ,  लेकिन   इसका बिलकुल उल्टा  हुआ  , मुहम्मद के  जम्म  से पहले अब्दुल्लाह   मर   गया  , और  आमिना    का जो बच्चा  मुहम्मद  हुआ  उसके  हाथ पैर ऊँट के खुर   जैसे   थे  , लोग  समझते  थे  इस बच्चे  में दुष्ट   शक्तियों   का वास  है इसी  लिए मुहम्मद  के सभी  चाचा   उस  से दूर   रहते  थे  ,  कोई  भी मुस्लमान   नहीं   बना 

 

4-उम्मे हकीम अल  बैदा –तीसरे  खलीफा उस्मान बिन  अफ्फान की नानी

5-बर्रा  – अबू सलमा की माता

6-अरवा -यह बचपन में मर गयी

7-अतीका -उमय्या अल मुगीरा की पत्नी

8-उम्मा -जैनब  बिन्त जहश और अब्दुल्लाह इब्न जहश  की माता

9-अब्दुल उज्जा -उर्फ़  अबू  लहब  , मुहम्मद  का चाचा  , कुरान में इसका उल्लेख है

10-हमजा – अली का भाई – उहद  के युद्ध में अबू सुफ़यान  की औरत हिंदा ने इसका कलेजा  चबा लिया  था

 

3-जुबैर  ने  यह कविता क्यों  लिखी 

जुबैर    परिवार  का मुखिया  होने के साथ   शायर भी  था  , मक्का  के लोग उसकी कविताओं  को  यद् रखते   थे  ,  लेकिन  लोगों को मुहम्मद  की  आदतें   और  कामों   से नफ़रत    थी  , 13 साल होते ही  मुहम्मद    ने अपनी  गैंग बना    ली   , जिस से वह काफिले  लूटा करते थे  ,  मुहम्मद ने यह  बात फैला राखी  थी  कि ऐसा करने के लिए  उसे  आसमान   से हुक्म  मिलता   है  ,पहली  बड़ी  लूट  मुहम्मद   ने सन 583 में  मकका  के कबीले कबीले  हवाजिन   को लूटा ,इस  लूट को “हरब  अल फ़िज़ार – ﺣﺮﺏ الفجار ”  कहा   जाता    है  , इसमें मुहम्मद  को  काफी  माल मिला  , इसके बाद   मुहमम्मद ने  लगातार     चार  लूट की वारदातें    की ,  जिस  से मक्का  के लोग मुहम्मद के दुश्मन    हो  गए  ,   लोगन   का मुंह  बंद  करने के लिए मुहम्मद   ने चाल चली   ,  वह  अपने  हरेक  कुकर्मों  को जायज  सिद्ध   करने के लिए  एक पुस्तक  बनाया  करता   थे जिसका  नाम   मुहम्मद   ने  ” अल किताब –    ”  रख  लिया   था   और जब  लोगों   ने आरोप  लगाया कि यह  किताब  तुमने   ही  बनाइ  है  , तो मुहमम्मद  ने अनपढ़  होने  का  नाटक   किया  , जबकि  इसका छोटा  भाई  अली लिखना पढ़ना   सीख   गया  .  और  जब  मुहम्मद    ने कहा यह   किताब  मेरी  रचना नहीं   ,  अल्लाह फ़रिश्ते   के माध्यम   से भेजता  रहता  ,  और  जब  जुबैर  को  लगा  कि सत्ता   के लोभ    में मुहममद दुनिया   को  धोखा  दे  रहा  है  तो उसने सोचा कि मुहमद  के कारन    पूरा कबीला  ,  अरब  लोगों   का नाश हो जायेगा  उसने  यह  कविता  लिखी   थी और जैसे जैसे मुहम्मदी   जिहाद  फैलता  गया  , जुबैर की कविता भी लोगों  को याद होती  गयी  ,जिहाद के बहाने मुहम्मद  ने जिन लोगों  को मरवाया था  वह बदला  लेने का मौका  देखने  लगे  ,

 

4-यह  कविता  कब  सार्वजनिक हुई 

यद्यपि   जुबैर ने यह कविता  कुरान के  अवतरण  से काफी पहले ही लिखी थी  ,लेकिन  इसे “यजीद बिन मुआविया – : يزيد بن معاوية بن أبي سفيان ” ने   अपने दरबार में लोगों  के सामने  उस  समय पढ़ा  था  जब  उसके सामने   इमाम हुसैन   का कटा  हुआ   सर लाया  गया   था  , यह  घटना 10  अक्टूबर  सन 680 , यानी  10 मुहर्रम   हिजरी 61 की बात  है  ,दरबार  में यजीद हुसैन के कटे सर  को छड़ी  से  मारते हुए कहने  लगा

(Most of the narrations had confirmed that Yazeed Bin Muawiya had recited the poetry of Al-Zubary during his public assembly, Al-Zubary is a poet from Quraish at the time of Jahiliyyah (pre-Islamic stage) who was very tough on Muslims)

أتمنى لو أن قادتي القدامى في بدر يمكن أن يشهدو

I wish my old chiefs at Badr could witness

الخازرج خوفا من تأثير الاندفاع

Al-Khazraj’s fearing of the impact of rush

كانوا سيهتفون ويصرخون بسعادة

They would have cheered and shouted happily,

ثم قالوا لي ، يا حسن يا سعيد

Then they would have said, good job O Yazeed

ان كُن مَن خندف اِذا كُنت الانتقام

I shall not be from the Khandaf if I do not avenge,

من عائلة أحمد لما فعله

From the family of Ahmad for what he had done

لعبت هاشم با مُلك فما

Hashim had manipulated the Reign

لاخبرجاء ولا وحي نزل

So, neither news arrived nor revelations happened”

****************  **********************************

 

इन  पुख्ता सबूतों   से     यह बातें  सिद्ध होती   हैं  ,

 

1 –मुस्लमान  विद्वान झूट  कहते हैं  कि कुरान   “कलाम उल्लाह  – ” यानी अल्लाह  की वाणी  है  ,   जो अरबी नौवें  महीने रमजान में  आसमान   से जिब्राईल  नाम  का फरिश्ता  मुहम्मद  के  पास  लाया   था  , और मुस्लिम  विद्वान्  कुरान  के अवतरण अर्थात  नुजूल ( Revelation )  की  जो 23 तारीख दिसंबर  सन 609 बताते   हैं   वह  भी  सरासर  झूठ  है  ,

 

2-जबकि  सच्चाई   तो  यह  है कि मुस्लिम  विद्वान्  कुरान  के उतरने की  जो तारीख   (23Dec 609    ) बताते  हैं  उस से  काफी पहले से  ही  लगभग  सन 585 -586 से  ही   मुहम्मद  जो भी बेतुकी  बातें  बोलता  था उसे( वही – “यानी  अल्लाह के वचन  बता दिया करता था  ,  और अपने  हरेक  कुकर्मों  को  को न  कोई  आयत बना  कर जायज ठहरा  देता  है  ,  इस  काम   में   उसका चचेरा भाई  और  दामाद  अली  भी  साथ  देते  थे  , मुहम्मद  की इस  धूर्तता  को बेनकाब  करने के लिए  ही   अबू  जुबैर  ने कविता  लिखी  थी  , लेकिन  जब  सन 610 में  अबू  जुबैर  की मौत  हुई  तो  मुहम्मद  ने अपनी किताब  को  अल्लाह  की किताब के नाम   से प्रकट  कर  दिया  .

 

B. N. Sharma (भंडाफोडू)

 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s