From: Pramod Agrawal < >

 

Subject: ॥ मोदी धाबा ॥

 

माननीय PM जी,

 

कृपया सारी योजना बंद कर दीजिये। सिर्फ सांसद भवन जैसी कैन्टीन हर दस किलोमीटर पर खुलवा दीजिये ।

सारे लफड़े खत्म।

29 रूपये में भरपेट खाना मिलेगा ।

80% लोगों को घर चलाने का लफड़ा खत्म।

ना सिलेंडर लाना, ना राशन और घर वाली भी खुश । चारों तरफ खुशियाँ ही रहेगी।

फिर हम कहेंगे सबका साथ सबका विकास ।

सबसे बड़ा फायदा 1र् किलो गेहूँ नहीं देना पड़ेगा

और PM जी को ये ना कहना पड़ेगा कि मिडिल क्लास के लोग अपने हिसाब से घर चलाएँ ।

 

इस पे गौर करें।

 

-: Modi Dhhaba :-

 

🇮🇳 मुद्दा नम्बर:-01

 

एक सिलेंडर की कीमत 783 रुपये, इंडियन आयल से बैंक में वापस जमा – 361 रूपये,

यानी, 783 – 361= 422 रूपये।

इसके पहले हमें सिलेंडर मिलता था 418 रूपये में,

मतलब कुल 4 रूपये का नुकसान।

 

अब पता ये लगाना है की मेरे द्वारा जमा पैसा ही मुझे वापस मिला। तो फिर सब्सिडी का पैसा कहाँ गया, बल्कि पहले से ज्यादा पैसे मुझे देने पड़े।

 

ये कौन सा गणित है…? पूरा देश सोच रहा है की उसे सब्सिडी का पैसा मिल रहा है, पर जनाब ये तो हमारा पैसा ही हमें मिल रहा है।

 

🇮🇳 मुद्दा नम्बर:-02

देश में पेट्रोल की कीमत कैसे तय होती है, उसका पूरा प्रोसेस इस प्रकार है :-

 

कच्चे तेल की वर्तमान कीमत = 50 डॉलर प्रति बेरेल।

(जहाँ, $1 = 63/-

और 1 बेरेल = 159 लीटर )

 

यानी, $50 = Rs.3150/-

 

1 लीटर कच्चा तेल भारत खरीदता है (3150/159) =19.80 रुपयों में।

 

1 लीटर पेट्रोल बनाने के लिए लगने वाला कच्चा तेल –

0.96 लीटर @19.80/- = 19.00/-

 

अब कच्चे तेल में से एक लीटर पेट्रोल बनाने की फिक्स्ड कीमत होती है 6 रूपये (ट्रांसपोर्टेशन मिलाकर)।

 

यानी, 19.00 रूपये + फिक्स्ड कीमत, 6 रूपये = 25.00 रूपये में एक लिटर पेट्रोल बनता है।

 

अब उसमे केंद्र सरकार का टेक्स लगता है, 25% यानी 6 रूपये।

यानी 25 + 6 = 31 रूपये।

 

और उपर से फिर राज्य सरकार के टेक्स जैसे VAT,

जिसे हम एवरेज 15% गिने तो होते है 5 रूपये यानी कुल मिलाकर होते है 36 रूपये।

 

और आखिर में पेट्रोल पंप डीलरों को पर लीटर 90 पैसे कमिशन दिया जाता है तो होते है कुल 37 रूपये।

 

लेकिन फिर भी आज हमे 65/- प्रति लीटर में पेट्रोल मिल रहा है॥

 

कृपया कड़ी मेहनत से प्राप्त हुई ये जानकारी देश के हर एक नागरिक तक पहुँचाने की कोशिश करे ।

 

 

शान है या छलावा…।

 

पूरे भारत में एक ही जगह ऐसी है जहाँ खाने की चीजें सबसे सस्ती है ।

 

 

चाय = 1.00

 

सुप = 5.50

 

दाल= 1.50

 

खाना =2.00

 

चपाती =1.00

 

चिकन= 24.50

 

डोसा = 4.00

 

बिरयानी=8.00

 

मच्छी= 13.00

 

ये सब चीजें सिर्फ गरीबों के लिए है और ये सब Available है Indian Parliament Canteen में।

 

और उन गरीबों की पगार है 80,000 रूपये महीना वो भी बिना income tax के ।

 

आपके Mobile में जितने भी नम्बर save है सबको forward करें ताकि सबको पता चले …

कि यही कारण है कि इन्हें लगता है कि जो आदमी 30 या 32 रूपये रोज कमाता है वो गरीब नहीं हैं।

 

Jokes तो हर रोज Forward करते हैं, आज इसे भी Forward करें।

 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s